राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद उत्तर प्रदेश- शाखा गोरखपुर।

ज़िला गोरखपुर/कर्मचारी शिक्षक अधिकारी एवं पेंशनर्स अधिकार मंच उत्तर प्रदेश के तत्वावधान में चल रहे आंदोलन कार्यक्रम के तहत आगामी 05 अक्टूबर को सभी कर्मचारी अपने हक के लिए स्टेशन रोड स्थित सिंचाई के नलकूप प्रांगण  पर मोटरसाइकिल के साथ उपस्थित होकर मोटरसाइकिल जुलूस में आवश्यक रूप से भागीदारी करें:रूपेश_
सारे गुटीय भावनाओं से ऊपर उठकर कर्मचारी  एकता भागीदारी करें :अश्विनी_

आज दिनांक 27/09/2021 को कर्मचारी शिक्षक अधिकारी एवं पेंशनर्स अधिकार मंच उत्तर प्रदेश की एक गेट मीटिंग/प्रदर्शन विकास भवन पर ग्राम विकास अधिकारी संघ के पूर्व प्रांतीय अध्यक्ष एवं राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के प्रांतीय उपाध्यक्ष श्री गंगेश शुक्ला जी, जो की प्रेक्षक के रूप में तैयारी के लिए आएं हैं, की अध्यक्षता में संपन्न हुई। संचालन सफाई कर्मचारी संघ के जिलाध्यक्ष एवं प्रदेश वरिष्ठ उपाध्यक्ष

इज़हार अली ने किया।सभा को संबोधित करते हुए गंगेश शुक्ला ने कहा कि आज कर्मचारी समाज विलुप्त होने के कगार पर खड़ा है। अगर आप लोग एक जुट नहीं रहें तो कर्मचारी समाज का नाम-ओ-निशान ख़त्म हो जाएगा। हर जगह आउटसोर्सिंग के माध्यम से संविदा पर भर्ती होगी जो कि कर्मचारियों के साथ-साथ नौजवानों के भविष्य के साथ छलावा होगा।
विकास भवन के मंत्री सुनील सिंह जी एवं विकास भवन के कर्मचारियों ने संयुक्त रूप से कहा कि, आज जरूरत है कि हम सभी गुटों से ऊपर उठकर पुरानी पेंशन हेतु चल रहे आंदोलन में अधिकार मंच के साथ शत प्रतिशत भागीदारी करें।राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद गोरखपुर के अध्यक्ष रूपेश कुमार श्रीवास्तव एवं मंत्री अश्विनी कुमार श्रीवास्तव ने कहा कि आने वाले दिनों में हमे सरकार को अपने मतों से चोट देने के लिए विवश होना पड़ेगा क्योंकि कर्मचारियों द्वारा बार-बार उठाई जा रही जायज़ मांगों को सरकार पूरी करने को तैयार नहीं है। प्रदेश के वर्तमान मुख्यमंत्री ने स्वयं पत्र लिखकर पूर्व प्रधानमंत्री से नई अंशदाई पेंशन समाप्त कर पुरानी पेंशन व्यवस्था बहाल करने का निवेदन किया था किंतु आज स्वयं सत्ता में होने पर पुरानी पेंशन व्यवस्था बहाल करने को तैयार नहीं हैं। सरकार चाहे तो कर्मचारियों के इतने बड़े वोट बैंक को संभाल सकती है परंतु सरकार इस ओर ध्यान नहीं दे रही है। यदि सरकार इसी तरह कर्मचारियों की मांगों को अनसुना करती रही तो निश्चित है कर्मचारियों को सरकार के विरुद्ध अपने मत का अधिकार करना पड़ेगा। यह इतिहास रहा है कि जब-जब कर्मचारी जिन सरकारों के विरुद्ध लामबद्ध हुए हैं, तब-तब  सरकारों को चुनाव में मुंह की खानी पड़ी है। कर्मचारियों की अनदेखी करना सरकार के लिए निश्चित ही नुकसानदायक साबित होगा।कार्यक्रम में मुंशरिफ, राधारमण पाण्डेय, अर्जुन प्रसाद, अनूप कुमार श्रीवास्तव, शब्बीर अली (संरक्षक), संतोष श्रीवास्तव, रामजनम पाल, संतराम, मुहम्मद आरिफ, संतोष, देवनारायण, उमेश, बिस्मिल्लाह, रवि प्रकाश, सुधांशू श्रीवास्तव, मोती, कलीमुल्लाह, श्रीराम पाण्डेय, निरंकार उपाध्याय, जयराम गुप्ता, मेहरूननिशा, इन्द्रावती, प्रताप, राजेश सिंह, ओमप्रकाश इत्यादि मुख्य रूप से उपस्थित रहे।

रूपेश कुमार श्रीवास्तव
(अध्यक्ष)
राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद,
गोरखपुर।
………………………………………
आज का अपराध न्यूज़
आशीष भट्ट गोरखपुर।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here