रेलवे बोर्ड में एक ही प्रश्न पर दो बार आरटीआई फाइल की गई दोनों आरटीआई में जो उत्तर दिया गया वह चौंकाने वाला था क्योंकि दोनों आरटीआई में अलग-अलग उत्तर दिए गए थे जोकि यह दर्शाता है कि रेलवे बोर्ड में आरटीआई को संवेदनशील तरीके से नहीं देखा जाता है और उत्तर एक औपचारिकता मात्र होता है

अतः भारत सरकार से अधिवक्ता(हाइकोर्ट)अश्वनी कुमार श्रीवास्तव ने निवेदन किया है कि इस पर अपना संज्ञान ले और इस पर उचित कार्रवाई करें जिससे कि किसी आम जनता को पूछे गए प्रश्नों के उत्तर में भ्रमित ना किया जाए और वह उचित उत्तर प्राप्त कर सके।
इस प्रकार रेलवे बोर्ड की पूर्ण रूप से जांच होनी चाहिए जिससे कि उसमें हो रहे धांधलेबाजी का पता लगाया जा सके


रिपोर्ट उपवेन्द्र राजपूत अलीगढ़

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here