ज़िला पीलीभीत/गठित टीमों द्वारा अपने अपने क्षेत्र में स्थिति जलाशयों, पोल्ट्री फार्म व मत्स्य की दुकानों को चिहिन्त करते हुये निरीक्षण कर सैपलिंग कराना करेगें सुनिश्चित-जिलाधिकारी।पीलीभीत जिलाधिकारी पुलकित खरे की अध्यक्षता में बर्ड फ्लू की पुष्टि होने के उपरांत रोकथाम के दृष्टिगत गांधी सभागार में समीक्षा बैठक संपन्न हुई। आयोजित बैठक में जिलाधिकारी द्वारा संक्रमण पर प्रभावी नियंत्रण हेतु 07 टास्कफोर्स का गठन किया गया है जो प्रत्येक विकास खंड पर जलाशयों, मुर्गी पालन फॉर्म व मत्स्य शाॅप को चिन्हित करते हुए प्रतिदिन अधिक से अधिक सैंपलिंग करना सुनिश्चित करेंगे और साथ ही साथ उसकी रिपोर्ट मुख्य विकास अधिकारी के माध्यम से प्रेषित करना सुनिश्चित करेंगे। गठित टीमों के समस्त कार्यों को ग्रामीण क्षेत्र में खंड विकास अधिकारी, नगरीय क्षेत्र में अधिशासी अधिकारी व वन क्षेत्र की भूमि के लिए सामाजिक वानिकी को पर्यवेक्षण अधिकारी के रूप में नामित करते हुए उपरोक्त कार्यो में सहयोग करने का उत्तरदायित्व दिया गया है। सभी पर्यवेक्षण अधिकारियों को निर्देशित किया गया है कि अपने अपने क्षेत्र में स्थिति जलाशयों, मुर्गी फार्म व मत्स्य की दुकानों को चिन्हित करते हुये निरीक्षण कराना सुनिश्चित करेगें और साथ ही साथ रैपिड रिस्पाॅन्स टीम के साथ प्रतिदिन अधिक से अधिक सैपलिंग कराना सुनिश्चित करेगें, इसके साथ ही साथ पोल्ट्री फार्म व दुकानों पर साफ सफाई करने के साथ बायो छिड़काव के सम्बन्ध में भी जागरूक करेगें। जिलाधिकारी द्वारा सम्बन्धित अधिकरियों को निर्देशित करते हुये कहा कि टीम भावना के साथ कार्य करते हुये संक्रमण के फैलाव को रोकना सुनिश्चित करेगें, यदि सैपलिंग में किसी स्थान पर वायरस की पुष्टि होती हो तो 01 किमी0 क्षेत्र को कन्टेमेंट जोन घोषित करते हुये पक्षियों किलिंग करने की कार्यवाही की जायेगी तथा अन्य सम्बन्धित विभाग पूर्ण सहयोग प्रदान करेंगें। उपरोक्त कार्यों में पर्यवेक्षण अधिकारियों का विशेष दायित्व रहेगा कि अपने अपने क्षेत्र में जलाशयों व फार्म व दुकानों के प्रति विशेष सर्तक रहे और नियमित सूचना उपलब्ध करायें। समस्त कार्यों के लिए नोडल अधिकारी मुख्य विकास अधिकारी को नामित किया गया है। जो नियमित सभी के कार्यों की समीक्षा करेगें। तहसील पूरनपुर के ग्राम शेरपुर कलां में वायरस की पुष्टि होने के उपरान्त पुलिस विभाग को भी निर्देशित किया गया है कि जनपद में बाहर से आने व जाने वाले मत्स्य उत्पाद पर रोक लगाई जाये तथा सुनिश्चित किया जाये कि बन्दी के दिन समस्त मत्स्य दुकानों पूर्णतया बन्द रखी जाये, इस कार्य में अधिशासी अधिकारियो का भी दायित्व निर्धारित किया गया है। वायरस संक्रमण की रोकथाम हेतु जनपद स्तर पर कंट्रोल रूम की स्थापना की गई है जिसका दूरभाष नंबर 05882-297820 है, दिये गये दूरभाष नम्बरों पर व्यक्ति किसी भी प्रकार की समस्या आने पर तत्काल अवगत करा सकते है। इस संबंध में मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी को निर्देशित किया कि कंट्रोल रूम पर आने वाली शिकायतों का तत्काल संज्ञान लेते हुए संबंधित टास्क फोर्स टीम को तत्काल शिकायतकर्ता का मोबाइल नंबर व शिकायत से अवगत कराया जाए जिससे टीम वहां तत्काल पहुंचकर आवश्यक कार्यवाही सुनिश्चित की जाएगी। मुख्य पशु चिकित्साधिकारी द्वारा अवगत कराया गया कि वायरस का वाहक शुकर होने के कारण पोल्ट्री फार्म के आस पास पालन का कार्य न किया जाये तथा आम जनमानस मांस या अण्डे का खाद्य के रूप प्रयोग करने से पूर्व अच्छी तरह से पका कर ही खायें तथा मत्स्य की दुकानों में साफ सफाई का विशेष ध्यान रखा जाये। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी निवास मिश्र, डीएफओ सामाजिक वानिकी, मुख्य पशु चिकित्साधिकारी, परियोजना निदेशक मृणाल सिंह जिला विकास अधिकारी योगेन्द्र पाठक, समस्त अधिशासी अधिकारी सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।

रि. योगेश गुप्ता आज का अपराध व्यूरोचीफ जनपद पीलीभीत

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here