उन्नाव/वैश्विक महामारी कोविड19 कोरोना वायरस के चलते संपूर्ण विश्व की चाल थम सी गई है। विश्व के समस्त शक्ति एवं साधन संपन्न देश इस महामारी से जूझ रहे हैं। इस वैश्विक आपदा ने जहां एक तरफ मनुष्यों को बेतरह प्रभावित किया है तो दूसरी तरफ बेजुबान जानवर पशु – पक्षी भी इससे काफी प्रभावित हो रहे हैं। हमारा देश भारत बड़ी मजबूती के साथ इस आपदा से जंग लड़ रहा है। पुलिस प्रशासन, स्वास्थ्य एवं सफाई कर्मी लगातार 24सों घंटे अपनी सेवाएं इस महामारी से लड़ने में दे रहे हैं। इन्हीं कोरोना योद्धाओं के चलते हम सभी हिंदुस्तानी अपने-अपने घरों में सुरक्षित हैं। इस लॉक डॉउन में सरकार आम जनता को खाने-पीने का सामान उनके घर पर ही सुगमता से उपलब्ध करा रही है। परंतु लॉक डॉउन के चलते निरीह पशु पक्षियों का हाल खासा बेहाल है। खासकर उन बेजुबानों का जो अर्ध या पूर्ण रूप से हम मनुष्यों पर आश्रित हैं।ऐसे में उन्नाव जनपद के बेहटा मुजावर थाना क्षेत्र से एक सुखद तस्वीर देखने को मिली है। बेहटा मुजावर थाना जनपद मुख्यालय से लगभग 65 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। वर्तमान में यहां पर तैनात इंस्पेक्टर राघवन कुमार सिंह को एक न्याय प्रिय कुशल और कर्तव्यनिष्ठ अधिकारी के रूप में जाना जाता है। उनके इन्हीं गुणों के चलते आमजन में इंस्पेक्टर राघवन की खासी स्वीकार्यता और लोकप्रियता भी है। थाना प्रांगण के पास एक मंदिर स्थित है जहां पर बड़ी संख्या में हनुमंत रूप बेजुबान बंदरो की खासी तादाद उपस्थित रहती है। जो सारा दिन पूरे नगर में विचरण कर के लोगों के द्वारा दिए गए भोजन फल आदि से अपने पेट की भूख शांत किया करते थे। लॉक डॉउन के चलते अब उन्हें भी खाने-पीने की दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। लेकिन यह बेजुबान हमारी तरह अपना दर्द किसी से बयां नहीं कर सकते। इस स्थिति में उनकी इस पीड़ा को थाना बेहटा मुजावर की पुलिस टीम ने समझा और उनके दर्द को महसूस किया। इंस्पेक्टर राघवन के नेतृत्व में बेहटा मुजावर पुलिस टीम ने इन बेजुबानों के खाने-पीने का माकूल इंतजाम किया हुआ है। दिन में दो बार इन बेजुबानों को फलाहार कराया जाता है। साथ ही बेहटा मुजावर पुलिस के द्वारा प्रतिदिन कस्बे में घूमने वाले आवारा पशुओं के भी खाने की व्यवस्था की जाती है। इंस्पेक्टर राघवन कुमार सिंह और उनकी टीम के इस सराहनीय प्रयास की क्षेत्र में काफी प्रशंसा हो रही है।

रिपोट विजयबहादुरसिहं के साथ मों इरफान खांन बांगरमऊ उन्नाव

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here