मैनपुरी। रविवार को कचहरी रोड स्थित रज्जो देवी कबीर आश्रम पर सत्संग का आयोजन किया गया। जिसमें आश्रम के महंत अमर साहेब ने बताया कि क्रोध मन के दीपक को बुझा देता है। अभी आत्मायें ब्रह्म हैं ,सभी लोगो से क्रोध व अहंकार से बचने का आवाहन किया।अमर साहेब ने बताया कि कबीर साहेब ने कहा सब काहू का लीजिए सांचा शब्द निहार ,पक्षपात ना कीजिए कहे कबीर विचार । यथार्थ में कबीर साहेब सत्य रहनी गहनी पर विश्वास रखते थे उनका उपास्य है सत्य ही था सत्य समान धर्म नहीं दूजा ,जप तप यज्ञ होम न पूजा। सदगुरु कबीर या जितने महान संत महापुरुष धरा धाम पर आए हैं वह सत्य में स्वयं रहे सत्य का प्रचार किया सत्य में अपना जीवन शान्ति किए। जो सत्य में जीता सत्य में मरता उसी को अमरता मिलती है। वही लोग प्रज्वलित दीपक बनकर व्यक्ति, समाज और देश से अवैज्ञानिक मान्यताओं व पाखंडों का असत्य के ज्ञान, अंधकार के कुहासे को पूर्णत: हटाने में सक्षम होते हैं। सत्य शब्द को प्रकट करके कहने में कठिनाई तो आ सकती। लेकिन तीन काल में सत्य-सत्य रहेगा और असत्य-असत्य रहेगा। महंत बताते हैं कि सांचा जीवन हुए बिना कोई तप काम नहीं करेगा और झूठ के बराबर कोई पाप नहीं हो सकता। जो अपने हृदय के तराजू पर तौलकर सत्य के आत्म के अनुरूप जीवन जीता उसी के हृदय में आत्मा और परमात्मा रूपी प्रकाश का उदय होता है। इसलिए अन्याय और अधर्म सत्य के सामने घुटने टेक देता है। साहेब बताते हैं कि अपने अवगुणों को देखकर उन्हें निकालने का प्रयास करें। कबीर साहेब ने कहा मैं सत्य के पथ का पथिक हूं और किसी स्वार्थ में लोभ लालच में दिन को रात तथा सत्य को असत्य नहीं कह सकता एवं अपने सत्य आत्मा ईमान को स्वार्थ लोभ पद के क्षणिक सुख के टुकड़ों में नहीं बेंच सकता। लाखों मुसीबत आने के बाद भी जो अपने धर्म पथ सत्य पथ आत्म पथ पर अटल रहता उस वीर साधक को जीने और मर जाने पर सफलता मिलती है ।सत्संग अवसर पर आत्माराम दास, चेतन दास, जंगसिंह, नरोत्तम दास, गिरीश, राजेंद्र सिंह, हरिओम दास, सुभाष दास, श्रीकृष्ण, रामरत्न, सियाराम दास,ब्रह्मजीत दास, चन्द्रपाल सिंह व छविनाथ सहित तमाम लोग मौजूद रहे।

रिपोर्टर डॉ गिरीश शाक्य
आज का अपराध न्यूज़
जिला ब्यूरो चीफ मैनपुरी
8077638288

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here