विभागीय नियम के तहत 7 वर्ष में क्षतिग्रस्त मार्गो का होता है मरम्मती करण लेकिन यह मार्ग तीन चार साल में ही हुआ ध्वस्त।

ज़िला उन्नाव-तहसील हसनगंज क्षेत्र कहां गए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के वो वादे। जिसमें कहा गया था कि प्रदेश की सभी सड़कें होंगी गड्ढा मुक्त। उन्नाव संसदीय क्षेत्र से साक्षी महाराज के दोबारा सांसद बनने के बाद भी मुख्य मार्गों का हो रहा है बुरा हाल।
मुंशीगंज अजगैन मार्ग जो लखनऊ कानपुर राजमार्ग से लोगों को सीधे जोड़ता है अपनी हकीकत तस्वीरों में बयां करने के साथ साथ अपनी बदहाली पर आंसू बहा रहा है।इस सड़क का निर्माण प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के अंतर्गत 2016 में किया गया था लेकिन ठेकेदारों और विभागीय अधिकारियों की मिलीभगत से मानक विहीन सड़क का निर्माण कराके सरकारी धन का बंदरबांट किया गया था। जो अब सरकारी धन को दोनों हाथों से लूटने वाले अधिकारियों और ठेकेदारों की पोल खोल रहा है । यह मार्ग अब पूरी तरह से जर्जर और भयंकर गड्ढों में तब्दील हो जाने से सड़क में गड्ढ़े है या गड्ढों में सड़क है पता करना मुश्किल हो कर रह गया है। इस मुख्य मार्ग पर सैकड़ों छोटे से लेकर बड़े वाहन प्रतिदिन आवागमन करते हैं यह मुख्य मार्ग हादसों का बनता जा रहा है मार्ग इस मार्ग पर आए दिन कोई ना कोई हादसा देखने को जरूर मिलता है। इस मुख्य मार्ग से जनप्रतिनिधियों का भी आवागमन होता है आवागमन होने के बाद भी इस मुख्य मार्ग का हाल है बद्हाल इस बद्हाल मार्ग को लेकर ग्राम व क्षेत्रवासियों ने कई बार आला अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों को भी अवगत कराया लेकिन अभी तक कोई भी कार्रवाई नहीं हुई है और ना ही मार्ग की मरम्मती करण किया गया है हमारे आला अधिकारी और जनप्रतिनिधि एक बड़े हादसे के इंतजार में बैठे हुए हैं।

रिपोर्ट मोहम्मद इरफान खान बांगरमऊ उन्नाव

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here