पीलीभीत जिलाधिकारी पुलकित खरे द्वारा आज रेशम विभाग व रेशम धागाकरण इकाई का औचक निरीक्षण किया गया। रेशम विभाग के निरीक्षण के दौरान उपस्थिति रजिस्टर में कर्मचारी उपस्थित पाये गये। इस दौरान सहायक निदेशक रेशम द्वारा अवगत कराया गया कि जनपद में 05 फर्म इकाईयां संचालित हैं, जिसमें 03 पूरनपुर, 01 ललौरीखेड़ा व 01 जनपद मुख्यालय पर संचालित है, जहां पर काकून सम्बन्धित कार्य सम्पादित किये जाते हैं। इस दौरान सहायक निदेशक रेशम द्वारा अवगत कराया गया कि पूरे उ0प्र0 में मात्र जनपद पीलीभीत व बहराइच में रेशम धागाकरण की इकाई स्थापित है, जहां काकुन से रेशम धागा तैयार करने हेतु रिलिंग व रि-रिलिंग की प्रक्रिया द्वारा रेशम का धागा तैयार किया जाता है। उनके द्वारा अवगत कराया गया कि जनपद स्तर पर संचालित रेशम धागाकरण इकाई 19 महिलाओं के एक स्वयं सहायता समूह द्वारा संचालित किया जाता है तथा तैयार रेशम धागे को टवीस्टिंग व लूम इकाई न होने के कारण बाहर भेजा जाता है और उपरोक्त ईकाईयां न होने के कारण रेशम धागे से विभिन्न सामग्री नहीं तैयार हो पा रही है।इस दौरान जिलाधिकारी ने कहा कि यह गर्व की बात है कि पूरे प्रदेश में मात्र 02 जनपदों में ऐसी इकाईयां संचालित है जिसमें अपना जनपद भी शामिल है। उन्होंने कहा कि जनपद में टवीस्टिंग व लूम की इकाई स्थापित की जाये तो रेशम से तैयार सामग्री को जनपद में ही बिक्री की जा सकेगी। जनपद में टवीस्टिंग इकाई के सम्बन्ध में सहायक निदेशक रेशम द्वारा जिलाधिकारी को अवगत कराया गया कि टवीस्टिंग इकाई स्थापित करने हेतु कार्यवाही की जा रही है तथा फरवरी माह तक संचालित की जाएगी। इस दौरान टवीस्टिंग इकाई स्थापित करने वाली संस्था को पत्र प्रेषित कर शीघ्र कार्य प्रारम्भ कराने हेतु निर्देशित किया गया। जिलाधिकारी द्वारा काकुन से रेशम धागा तैयार करने से लेकर सामग्री बनाने तक समस्त ईकाईयों को जनपद में संचालित करने के सम्बन्ध में निर्देशित करते हुये कहा कि टवीस्टिंग स्थापित होने के साथ साथ लूम इकाई स्थापित की जाएगी। इस सम्बन्ध में सहायक निदेशक रेशम से सम्बन्धित उपकरण व इकाई संचालित करने हेतु आवश्यक सामग्री की सूची तैयार कर प्रेषित करने हेतु निर्देशित किया गया। समस्त इकाई स्थापित होने के उपरान्त प्रदेश में पीलीभीत जनपद एक मात्र जनपद होगा जहां पर काकून से रेशम तैयार करने के साथ साथ सामग्री भी तैयार करने की प्रक्रिया सम्बन्धी पूर्ण इकाई स्थापित हो जाएगी। निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी द्वारा काकुन से रेशम निकालने की प्रक्रिया के सम्बन्ध में पूर्ण जानकारी ली गई तथा धागे के रिलिंग व रि-रिलिंग सम्बन्धी प्रक्रिया को समझा गया।
निरीक्षक दौरान सहायक निदेशक रेशम मिथलेश कुमार, जिला रेशम अधिकारी मनोज कुमार गौतम सहित अन्य अधिकारी/कर्मचारी उपस्थित रहे

।रि. योगेश गुप्ता आज का अपराध व्यूरोचीफ जनपद पीलीभीत

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here