तिकुनियां मंडी समिति ने रचा इतिहास जो काम पूरे देश की मंडी समिति आजतक नही कर पाईं थी उसे तिकुनियां मंडी समिति ने करके दिखाया
जिस मंडी में सिर्फ किसानों की फसलें बिका करती थीं तिकुनियां मंडी के कर्मचारियों ने एक कदम आगे बढ़कर अब कई जगह बालू के बड़े बड़े ढेर लगी है अभी ये जानकारी करना बाकी है की बालू किसानों से खरीदी या मंडी समिति के कर्मचारी खुद लेकर आये है ।अगर बालू किसी किसान की है तो ये बात मंडी समिति के अधिकारियों को बतानी चाहिए कि अब हमारी मंडी में बालू भी खरीदी जाती है जिस तरह और प्रोग्रामों की जानकारी किसानों को बैनर लगा कर दी जा रही है हमारे रिपोर्टर ने जब बालू के बारे में वहाँ मौजूद अधिकारियों से जानने की कोशिश की तो किसी ने भी कोई जवाब नही दीया शासन प्रशासन सब मौन है किसी के पास समय नही है जो अचानक दौरा करके मंडी समिति की क्या स्थिती है किसानों की क्या समस्याएँ है इनपर ध्यान दें मंडी समिति के दो गेट हैं लेकिन एक गेट पिछले पाँच साल से बन्द है जिसकी शिकायत कई बार की गई थी लेकिन मंडी समिति के कर्मचारियों पर उसका असर नहीं पड़ता क्यों की मंडी समिति में कुछ लोग 25 साल से जमे हुवे है
उनकी जड़े इतनी मजबूत हो गई है कि अब उनको किसी का ज़र्रा बराबर भी खौफ नही उनकी पहुच बहुत ऊपर तक है इसलिये वो जो चाहें वो करें उनका कोई कुछ भी बिगाड़ नही सकता

आज का अपराध न्यूज़
पुतान लाल गौड़

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here