उन्नाव 15 जनवरी 2021 (सू0वि0) जिलाधिकारी रवीन्द्र कुमार की अध्यक्षता में विकास भवन सभागार में बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजनान्तर्गत पी0सी0पी0एन0डी0टी0 एक्ट के सम्बन्ध में कार्यशाला आयोजित की गयी। कार्यशाला में अपर मुख्य चिकित्साधिकारी तन्मय कक्कड़ द्वारा जनपद में कन्या भ्रूण हत्या रोके जाने हेतु पी0सी0पी0एन0डी0टी0 एक्ट के प्राविधानों के बारे में विस्तृत रूप से अवगत कराया गया। जिलाधिकारी ने उपस्थित सम्बन्धित विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये कि जनपद में पी0सी0पी0 एन0डी0टी0 सेल को सक्रिय किये जाने तथा मुखबिर योजना लागू किये जाने के साथ ही पी0सी0पी0एन0डी0टी0 एक्ट का उल्लंघन करने वाले अल्ट्रासाउण्ड सेण्टर आदि के विरूद्ध कठोर कानूनी कार्यवाही किये जाये। बैठक में मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना की समीक्षा की गयी एवं श्रेणी-1 व श्रेणी-2 के पात्र आवेदन पत्रों को 15 दिवस के अन्दर आनलाइन भराये जाने हेतु निर्देशित किया गया। उन्होंने निर्देश दिये कि 15 दिन के उपरान्त अब तक हुयी कार्यवाहीं की समीक्षा की जाये जिनका कार्य अच्छा है उन्हें साम्मानित किया जाये। सभी बाल विकास विभाग के अधिकारियों एवं सुपरवाईजरों को कड़े निर्देश दिये है कि निर्धारित समय सीमा में कार्य पूरा करालें।
बेटी बचाव बेटी पढ़ाओं के तहत महिला कल्याण विभाग द्वारा संचालित मुख्य मंत्री कन्या सुमंगला योजना को जनपद में बढावा देने के उद्देश्य से विभिन्न विभागों द्वारा सक्रिय सहयोग के निर्देश दिये गये है। प्रथम श्रेणी के बालिका के जन्म होने के उपरान्त 2 हजार रूपये तथा द्वितीय श्रेणी बालिका के एक वर्ष तक के पूर्ण टीकाकरण के उपरान्त 1 हजार रूपये जैसी अनेक श्रेणी योजनायें संचालित है। पात्रता हेतु लाभार्थी का परिवार स्थायी रूप से जनपद का निवासी हो वार्षिक आय 3 लाख रूपये आदि निर्धारित पात्रता शर्तें रखी गयी है। अधिक जानकारी के लिये जिला प्रोबेशन कार्यालय से सम्पर्क किया जा सकता है। कार्यशाला में यह भी जानकारी दी गयी की लिंग परीक्षण रोकने के लिये राज्य सरकार द्वारा मुखबिर योजना चलाई गई है। जिसमें लिंग परीक्षण करने वाले एवं करवाने वाले की सूचना देने पर दो लाख रूपये पुरस्कार की घोषणा की गई है। जिसमें मुखबिर/गर्भवती तथा गर्भवती के सहयोगी को जिला स्वास्थ्य समिति द्वारा बानेय गये अधिनियम के तहत धनराशि का वितरण किया जायेगा।
बैठक में मुख्य विकास अधिकारी डा0 राजेश कुमार प्रजापति, अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 तन्मय कक्कड़, प्रभारी चिकित्साधिकारी सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र, पी.सी.पी.एन.डी.टी. सेल के सदस्य, जिला कार्यक्रम अधिकारी, जिला प्रोबेशन अधिकारी श्रीमती रेनू यादव, समस्त बाल विकास परियोजनाधिकारी एवं समस्त सुपरवाइजर, महिला शक्ति केन्द्र व जिला बाल संरक्षण इकाई के अधिकारी व कर्मचारी तथा अल्ट्रासाउण्ड सेण्टर संचालक आदि उपस्थित रहे।

इरफान खान उन्नाव।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here