गोरखपुर।। दिनांक 25 फरवरी 2021 को आज नगर के मियां साहब इस्लामिया इंटर कॉलेज बक्शीपुर सभागार में डॉक्टर साजिद अली मेमोरियल कमेटी के तत्वाधान में उर्दू के मशहूर शायर और आदिब डॉक्टर सलाम सन्दीलवी की याद में एक संगोष्ठी का आयोजन किया गया जिसकी अध्यक्षता एडवोकेट मकबूल अहमद ने की एवं कार्यक्रम के मुख्य अतिथि रहे प्रोफेसर र रहमान इस अवसर पर सलाम साहब को याद करते हुए प्रोफेसर र रहमान ने कहा कि यह अलग बात है कि डॉक्टर सलाम सैलरी के कोई संतान नहीं थी लेकिन अगर देखा जाए तो उनके शागिर्द की तादाद हजारों में है जो कि उनकी संतान से बढ़कर हैं उन्होंने बताया कि जब गोरखपुर विश्वविद्यालय के उर्दू विभाग में मैं गया तो वहां अक्सर सलाम संदेश भी पर बातचीत हुआ करती थी सलाम साहब ने जिंदगी के जिन हालात में गुजारा है और उसी से उन्होंने जिंदगी का हुनर सीखा है इस अवसर पर सलाम सर देवी को याद करते हुए शहर और आसान अधिकार जमीर अहमद बयान में कहा कि सलाम साहब उर्दू अदब के एक बुलंद सितारा है जो पहले भी चमकते रहे हैं और हमेशा चमकते रहेंगे अभी दुनिया से उनका गहरा ताल्लुक था लिखना पढ़ना उनका काम था गोरखपुर की शेरो शायरी और अभी महफिलों में वह हमेशा नजर आते थे इस अवसर पर डॉ उल्ला चौधरी ने कहा कि सलाम साहब से मेरे घनिष्ठ संबंध थे उन्होंने हमेशा अदब की सरपरस्ती की है रंजो गम शख्सियत को तमाम उम्र मिला हो उसका अंदाजा लगाना आसान नहीं सलाम साहब ने आगरा लखनऊ और गोरखपुर जैसे मुख्तलिफ शहरों में उस्ताद के तौर पर शिक्षण का कार्य अंजाम दिया है इस अवसर पर शाहिद अली मेमोरियल कमेटी के सेक्रेटरी ने कहा कि बहुत से सलाम देवी के ऊपर कोई कार्यक्रम आयोजित नहीं किया गया था और आने वाली नस्लें नहीं पहचानती हैं आज इस कार्यक्रम के माध्यम से यह कोशिश की जा रही है कि आने वाले सलाम सन्दीलवी को समझे उन्हें पढ़े और आगे बढ़े इस अवसर पर मियां साहब इस्लामिया इंटर कॉलेज की बहुत सी छात्राएं उपस्थित हुई।

आज का अपराध न्यूज़
रिपोर्ट,सैयद रेहान,गोरखपुर।
+91 88080 92786

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here