पलियाकला – खीरी – मझगई न्यायपंचायत तिलोकपुर की सभी ग्रामसभाओं में सड़को पर गुमने वाले बेसहारा पशुओं को सुरक्षित रखने व सड़कों पर उनकी चहल कदमी रोकने के लिए कहने को तो तमाम खर्च और खानापूर्ति किया जा रहा है लेकिन हालात कुछ और हैं सभी काम सिर्फ फाइलों में ही दबकर रह जाती हैं वही गुजरते दिन के साथ ही ये इंतजाम भी बद से बत्तर होते चले गए, नगर व क्षेत्रों के गांव की सड़कों पर घूम रहे बेसहारा पशु शासन प्रशासन के इंतजामो की पोल खोल रहे है, जहां इन गायों और सांड़ो को सुरक्षित यातायात के चलते गौशालाओं में पहुचाने का काम करना था। वही झुण्ड के झुंड सड़को के किनारे कचड़े के ढेर में मुंह मरते देखे जा सकते है आपको बतादे कि मझगई मे बने गोशाला में सुरक्षित न रखकर वहां पर महजूद कर्मचारियों के हिला हवाली के चलते टेक लगे गायों को दुबारा छोड़ दिया जाता है जो सड़को किनारे नजर आने लगे है, जो कि तहसील प्रशासन के प्रयास पूरी तरह से खोखले साबित हो रहा हैं लेकिन इन सब के बाबजूद आवारा घूम रहे झुंड किसानों के खेतों की खड़ी फसलों को बर्बाद करने में लगे हुए हैं आपको बता दें कि कुछ समय पहले नैगवां कस्बे में किसी अज्ञात वाहन से टकराकर एक गाय की मौत हो गई थी और गाय को कस्बे के व्यापरियों ने दफनाया था वहीं लोगों ने गौशाला बनाने की मांग को लेकर गुस्सा जाहिर की थी कस्बे के व्यापारी नेता राजू चौरसिया ने बताया इससे पूर्व कई गायों के कुचलने से मौत हो चुकी है और आये दिन कई अनगिनत घटनाएँ भी होती रहती है जिसमे या तो गौवंस बुरी तरह से जख्मी हो जाते या फिर गौवंस की टक्कर से राहगीर l कई राहगीर तो गौवंसो से टकराने पर समय से पूर्व ही काल को प्राप्त कर चुके है, उसके बावजूद गौवंश व इंसानी जानों को सुरक्षित रखने के लिए तहसील प्रशासन पुख्ता तौर पर काम ही नही किया। दर्जनों आवारा घूम रहे सड़को और कस्बो में सांड व गौवंसो ने आतंक मचा रखा है जिम्मेदार मूक दर्शक बन तमाशा देख रहे है l

आज का अपराध न्यूज़
रिपोर्ट शादाब खान
लखीमपुर खीरी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here