उत्तर प्रदेश के जिला फिरोजाबाद में एक अजीबोगरीब कहानी देखने को सुबह सुनने को मिली जहां देखा गया है के परिवार में किसी भी सदस्य को नौकरी मिलने से उस परिवार के भरण पोषण व सारी सुख सुविधाओं के लिए का जहां निस्तारण होता है वही इस परिवार की कहानी कुछ इस तरह से है उप कृषि निदेशक दबरई फिरोजाबाद में कार्यरत हंसराज जी का परिवार कुछ दिन से नगर निगम फिरोजाबाद के रेन बसेरे में काट रहा है उनके परिवार के बच्चों का कहना कुछ इस तरह है वह आजमगढ़ के रहने वाले हैं और लड़कियां और लड़के अपने पिता को वापस लाने के लिए वह यहां आज ऐसी स्थिति में खड़े हैं पूछने पर मालूम पड़ा कि यहां जब से वह कार्यरत हैं तब से उनकी पहली बीवी के अलावा और भी दो विधियां बताई जाती हैं जिनके साथ वह मजे में रह रहे हैं बिना पहली बीवी को तलाक दिए जो कि कानूनन जुर्म है अपने बाप को पाने के लिए उनकी पहली बीवी और बच्चे कई दिनों से यहां जिला फिरोजाबाद नगर निगम के रैन बसेरे में उनका इंतजार कर रहे हैं और वह परिवार फिरोजाबाद के डीएम साहिबा नेहा शर्मा जी से भी शिकायत की उन्होंने वहां से आश्वासन मिला है कि हम आपका मामले को सुलझाने की कोशिश करेंगे यह परिवार दर-दर भटक रहा है सिर्फ अपने पिता को वापस पाने के लिए जिसमें उप कृषि निदेशक फिरोजाबाद हंसराज जी की पत्नी का नाम गायत्री देवी बेटी का नाम सीमा गौतम लड़के का नाम विजय गौतम विशाल गौतम वह आदि है अब देखना यह है इनके साथ न्याय होता है या नहीं

रिपोर्ट

किशेंद्र कुमार
ब्यूरो चीफ
फिरोज़ाबाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here