क्षेत्र में राशन की कालाबाजारी को लेकर क्षेत्रीय कोटेदारों के हौसले बुलन्द हैं।इतना ही नहीं क्षेत्रीय लोगों को अब पहले की अपेक्षा काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा हैं।उपभोक्ताओं को कभी सर्वर न आने की बात, तो कभी सुबह आने की बात तो कभी अपनी लिस्ट में नाम न होने की बात कहकर टरकाया जा रहा है।और उपभोक्ता सुबह से लेकर शाम तक राशन अभिकर्ता के द्वारे बैठकर अन्त मे मायूस होकर चला जाता है लगातार तीन चार दिन आने के बाद भी जब उन्हें अंगूठा मैच न होने का हवाला देकर चलता कर दिया जाता है जरा तब सोचो उन गरीब लाभार्थियों के दिल में क्या गुजरता होगा।
लेकिन ये सब सप्लाई इन्स्पेक्टर बांगरमऊ/सफीपुर जानते हुए भी अन्जान बने बैठे हैं।इतना ही नहीं बहुत सारे ऐसे भी पात्र हैं जिनका नाम दिसम्बर से पात्र गृहस्थी की लिस्ट में दर्ज है फिर भी उनको राशन नहीं दिया जा रहा है।आखिर जिनका अंगूठा मैच न होना बताकर टरकाया एवं जिनका नाम दिसम्बर से पात्र गृहस्थी की सूची में दर्ज है क्यों नहीं दिया जाता राशन आखिर क्या कारण है?आखिर इन लोगो का राशन जाता कहां है?आखिर सम्बन्धित अधिकारी इस पर जवाब क्यों नहीं देते?जबकि उन्नाव के जिलाधिकारी देवेन्द कुमार पाण्डेय ने कई सप्ताह पूर्व आदेश दिया था कि कोई भी कोटेदार किसी भी उपभोक्ता को अंगूठा मैच न होने की दशा में राशन देने से इन्कार नहीं कर सकता।लेकिन फिर भी उन्नाव के जिलाधिकारी के आदेशो की सम्बन्धित कोटेदार अवहेलना कर रहे हैं।
रिपोर्ट! मोहम्मद इरफान खान जिला संवाददाता आज का अपराध बांगरमऊ मऊ मोबाइल नंबर 93053 28907

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here