योगी सरकार मे भी नदियो से बालू का अवैध कारोबार का गोरखधंधा चल रहा है, सफेदपोश नेता सत्ता की आड मे मशीनो से बालू खनन कर रहे हैं, जिससे नदियां या तो अपने अस्तित्व को खो रही है या फिर रुख ही बदल दे रही हैं, नदियों से बालू खनन का काला कारोबार बिना रोकटोक एक बार फिर से जारी हो गया है, गौरतलब है कि हाल ही जिले के दो डीएम को शासन ने बालू खनन न रोक पाने की वजह से हटा दिया था और फिर से नये डीएम राजशेखर के सामने बालू का अवैध कारोबार रोकने की चुनौती है। कलवारी थाना क्षेत्र से होकर बहने वाली घाघरा नदी से बालू के माफिया रोजाना सैकड़ों ट्रक और ट्राली बालू खोद रहे हैं। 
कलवारी के माझा इलाके के गांव महुआपारकला में पट्टे के नाम पर बालू का अवैध कारोबार तेजी से चल रहा है। हर रोज राजस्व विभाग को करोड़ों का चूना लगाकर खनन माफिया बालू की खुदाई कर रहे है जिससे नदी की धारा भी अब आबादी की तरफ मुड़ रही है। नदी की धारा से बेपरवाह बालू माफिया पोकलैंड मशीन लगाकर ट्रको के ट्रक अवैध बालू निकाल रहे हैं। इन दिनों सरयू काअधिकतर हिस्सा सुख गया है जिसमें बालू खोदने का काम हो रहा है। वहीं इस संबंध में एडीएम रमेश चन्द्र ने बताया कि बालू खनन को लेकर तमाम कार्रवाई की जा रही है, फिर भी अगर ये कारोबार चल रहा है तो उसे रोकने के लिये प्रयास किया जायेगा।

रिपोर्ट- रजनीश कुमार पाण्डेय
बस्ती यूपी
मो- 9795193660

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here