फ़िरोज़ाबाद थाना उत्तर का मामला-

🌑₹2,50,00,000/- (रूपया ढाई करोड़) से ज़्यादा क़ीमत की हेरोइन बरामद, मादक पदार्थों की तस्करी से संबंधित फ़िरोज़ाबाद ज़िले का सबसे बड़ा तस्कर व कुख्यात सटोरिया गिरफ़्तार

🌑कुख्यात अपराधी जाबिर पुत्र महबूब खाँ* निवासी ग़ालिब नगर थाना रसूलपुर को गिरफ़्तार किया गया उसके क़ब्ज़े से।

🌑1. इसके क़ब्ज़े से 500 ग्राम से अधिक मात्रा की हेरोइन बरामद हुई है अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में इसकी क़ीमत क़रीब ₹ 2,50,00,000/- (ढाई करोड़) से भी ज़्यादा आँकी जा रही है।

🌑2. क़रीब 5,000 ग्राम से अधिक मात्रा में गाँजा भी बरामद हुआ है।

👆🏻कुख्यात हिस्ट्रीशीटर और नशे का दुर्दांत सौदागर जाबिर पुत्र महबूब खान, निवासी ग़ालिब नगर,थाना रसूलपुर पुर, ज़िला फ़िरोज़ाबाद।

🌑3. सन् 1999 से लेकर अब तक, इस कुख्यात अपराधी के ख़िलाफ़ 20 से अधिक मामले दर्ज पाए गए हैं। थाना रसूलपुर का यह एक हिस्ट्रीशीटर अपराधी है।

🌑इसके नेटवर्क में कुल 14 लोग शामिल होने की बात प्रकार में आई है, जिनकी पड़ताल के लिए 5 टीमें लगाई गईं हैं।

🌑इसके सपोर्ट में कुछ सफ़ेदपोश कुछ पुलिसकर्मी और कुछ स्थानीय स्तर के मीडियाकर्मियों की भी भागीदारी रहती है, यह बात पूछताछ में उजागर हुई है, जिसकी गहन जाँच की जा रही है। किसी भी दोषी को बख़्शा नहीं जाएगा।


👆🏻इसी पौधे के माध्यम से हेरोइन तैयार होती है यह पोस्ता या अफ़ीम का पौधा कहलाता है।

👆🏻ऐसे कई लाख चीरे लगा कर अफ़ीम एकत्र होती है। अफ़ीम से मार्फीन बनती है। मार्फीन से डाई एसिटाइल मार्फीन बनती है, जिसे हेरोइन भी कहा जाता है…इसको तैयार करने की प्रक्रिया बड़ी मँहगी है। इसके ओवर डोज़ से आधे घण्टे के भीतर मौत भी हो जाती है।

🌑बड़ी कामयाबी। इस कामयाबी पर पुलिस अधीक्षक फ़िरोज़ाबाद अजय कुमार ने अपनी तेज़ तर्रार टीम को ₹ 25,000/- के नक़द ईनाम से नवाज़ा है।

आज का अपराध न्यूज़
ब्यूरो रिपोर्ट ज़िला फिरोजाबाद।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here