कभी-कभी मुँह से निकली एक ही बात, हाथ से लिखा गया एक ही लफ़्ज़ या सबके सामने किया गया एक ही कार्य आपको सदा-सदा के लिए ‘विलैन’ (समाज विरोधी तत्व) बना सकता है।

जितना यह ज़रूरी है कि हम आला अदालत के फ़ैसले का शिद्दत से सम्मान करें, उतना ही ज़रूरी है कि हम अपनी भावनाओं को अपने ही दिल में तवज्जो देते हुए किसी भी भाई-बहन पर कोई भी टीका-टिप्पणी ना करें।

हम सबको साथ-साथ रहना है, सदा-सदा रहना है। मुहब्बत और सुकूँ से रहना है।कुछ भी हो जाए हम ही एक दूसरे के काम आएँगे,ज़रूरत के वक़्त मददगार भी बनेंगे। इसलिए, गर्व से कहिए कि हम सब सच्चे हिन्दुस्तानी हैं, और अपनी आला अदालत के फ़ैसले का तह-ए-दिल से सम्मान करते हैं।

मुहब्बत, भाईचारे और अमन-ओ-अमान से रत्ती भर समझौता नहीं करेंगे हम !

सबकी जीत, यही है रीत
हम सब भाई, हम सब मीत
हम सब सच्चे हिन्दुस्तानी
अमन-चैन का गाते गीत

जय हिन्द ! जय भारत !! जय शामली !!!
अजय कुमार, आई पी एस
पुलिस अधीक्षक, शामली

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here