प्रतापगढ़।आदणीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने 5 अप्रैल को रात्रि 9बजे घर की लाइट बंद कर दीया या मोमबती या मोबाइल की लाइट जलाने के लिए क्यों कहा।उनके कहने के पीछे एक आध्यात्मिक कारण भी है।क्योंकि हमारे शरीर में 9दरवाजे है।( दो आख॔, दो कान,नाक ,मूहं,हाथ,पैर,उत्सर्जन, प्रजनन)दसवाँ द्वार प्रकाश का है जो आत्मा रूपी दीय के प्रकाश से मन का अंधकार दूर होता है।यह आत्मा रूपी दीया का प्रकाश करने का तरीका वर्तमान के सद्गुरु महाराज बताते वह मन को बनाती को आत्म रूपी दीये से जोड़ कर अपनी कृपा की तीली से प्रज्वलित करते है। जिससे निजीस्वार्थ का अंधकार दूर होकर परमार्थ का,सकारात्मकता साहस,धर्य,शारीरिक,मानसिक,आत्मिक प्रकाश मिलता है।
सभी देशवासियों को अपनी इमुनियटी शक्ति को एक दीपक के प्रकाश के माध्यम से बढ़ाना चाहिए जो हमारे पूर्वज,ऋषि-मुनियों राजा,महाराजा करते थे।जब भी कोई राजा महाराजा युद्ध में जाते थे उसकी थाली में दीपक जला और तिलक करके उनकी पत्नी उन्हें भेजी थी । इसका यही प्रयोजन है कि उनमें सकारात्मक की उर्जा साहस का बल ,उत्साह का नूर,देशभक्ति की इच्छा शक्ति को बढ़ाने के लिए,भय से मुक्ति मिलती है।अध्यात्म रूप से मन का तिमिर भी आत्मा का दीप जलने से ही समाप्त होता है और निजीस्वार्थ से ऊपर उठने की शक्ति प्राप्त होती है।निजी स्वार्थ का त्याग मानव को देवता से भी ऊपर उठा देता है।आइए हम सभी 5अप्रैल को रात्रि 9बजे घी या तेल का दीया जलाकर अपनी उर्जा शक्ति को बढ़ाए और राष्ट्र हित में अपना योगदान प्रदान करेंगे धन्यवाद।
5 अप्रैल ही क्यों चुना इसका प्रयोजन यह है कि हमारे अन्दर जो पाँच महामारी (काम,क्रोध,मोह,लोभ,अहंकार)है जो बाहर के साधनों से दूर नहीं होती।

मो,सलमान ब्यूरो प्रमुख प्रतापगढ़
मो,9415151985

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here