Home Blog

ग्राम प्रधान के विरुद्ध अविश्वास प्रस्ताव कैसे लाया जाय पंचायत जागरूकता:अजय सैनी निघासन खीरी


दोस्तों पंचायती राज ने जहाँ ग्राम प्रधान को अपने गांव के विकास के लिये तमाम शक्तियां प्रदान की हैं वहीं कुछ शक्तियां मतदाताओं को भी प्रदान की हैं ताकि यदि ग्राम प्रधान भ्रष्टाचार कदाचार में लिप्त रहे ,अपने गांव का विकास न करे ,तो ग्रामीण अपने गांव के प्रधान को हटा सकें।पंचायतीराज अधिनियम की धारा 14 ग्रामीणों को अपने गांव के प्रधान को हटाने की शक्ति प्रदान करती है ।ग्राम प्रधान को कैसे हटाएं ? के सम्बंध में पंचायती राज अधिनियम की धारा 14 ग्रामीणों के लिये बहुत उपयोगी है।
दोस्तों आओ जानते हैं अपने गांव के प्रधान को हटाने का तरीका
किसी भी ग्राम प्रधान या सरपंच को हटाने के दो तरीके होते हैं प्रथम अविश्वास प्रस्ताव ,द्वितीय यदि ग्राम प्रधान सरकारी आदेशों की अवहेलना करे तो राज्य सरकार प्रधान पर कार्यवाही कर उसे पदमुक्त कर सकती है ।
आओ हम प्रथम तरीके को जानते हैं अर्थात ग्राम प्रधान के विरुद्ध अविश्वास प्रस्ताव को कैसे लाया जाता है ? दोस्तों हम सभी जानते हैं कि भारत गांवों में बसता है गांव के विकास के बिना भारत का विकास संभव नहीं है ।गांव का विकास गांव के निवासियों द्वारा ही हो इसीलिये पंचायतीराज अधिनियम द्वारा ग्राम पंचयतों को मजबूत किया गया तथा प्रधान या सरपंच को अनेक शक्तियां प्रदान की गयीं।साथ ही ग्राम प्रधान के साथ साथ ग्राम सभा के सदस्यों अर्थात मतदाताओं को भी अधिकार दिया गया है ताकि वह ग्राम प्रधान की निरंकुशता पर लगाम लगा सके।
अविश्वास प्रस्ताव क्यों लाया जाता है-
दोस्तों यदि ग्राम प्रधान या सरपंच अपने कार्यों के प्रति लापरवाह है, अपने ग्राम पंचायतों के विकास कार्यों के प्रति उदासीन है ।उसे पंचायत के कार्यों में रुचि नहीं है या भ्रष्टाचार कदाचार में डूबा है ,इस स्थिति में ग्राम सभा के सदस्य अर्थात मतदाता(18 वर्ष या उससे अधिक उम्र का कोई भी ग्रामीण ) ग्राम प्रधान के विरुद्ध अविश्वास प्रस्ताव ला सकते हैं एवं प्रस्ताव पारित होने की स्थिति में ग्राम प्रधान को अपने पद से इस्तीफा देना पड़ता है।
अविश्वास प्रस्ताव कैसे लाया जाता है-
ग्राम प्रधान के विरुद्ध अविश्वास प्रस्ताव की प्रक्रिया बड़ी सरल है ।यदि ग्रामीण अपने ग्राम प्रधान के कार्यों से असंतुष्ट है ,उसके अन्याय और भ्रष्टाचार से परेशान हैं तो ग्रामसभा के आधे से अधिक सदस्यों के हस्ताक्षर सहित एक आवेदन जिसमे ग्राम पंंचायत के तीन सदस्यों अर्थात पंचों के हस्ताक्षर भी होने अनिवार्य हैं को जिला पंचायत राज अधिकारी ( डी पी आर ओ )के समक्ष प्रस्तुत करना होता है ।जिला पंचायत राज अधिकारी के समक्ष आवेदन प्रस्तुत करते समय यह जरूरी है कि ग्राम पंचायत के तीन सदस्य जिन्होंने आवेदन पर हस्ताक्षर किए थे जिला पंचायतराजअधिकारी को अविश्वासप्रस्ताव का आवेदन देते समय अनिवार्य रूप से उपस्थित होना पड़ता।
जिला पंचायत राज अधिकारी 30 दिनों के अंदर-अंदर ग्राम सभा की बैठक बुलाते हैं जिसकी सूचना 15 दिन पूर्व ग्राम पंचायत कार्यालय में चस्पा दी जाती है या मुनादी या डुग्गी द्वारा ग्रामसभा को दे दी जाती है। डी पी आर ओ की उपस्थिति में ग्राम सभा की बैठक होती है जिसमे ग्राम सभा के सदस्यों द्वारा अविश्वास प्रस्ताव लाया जाता है।अविश्वास प्रस्ताव लाये जाने के बाद गुप्त मतदान होता है ।ग्राम सभा की बैठक में उपस्थित एवं मत देने वाले सदस्यों का दो तिहाई मत पड़ना आवश्यक होता है । यदि दो तिहाई मत पड़ जाते हैं तब प्रधान अपना इस्तीफा दे देता है
अविश्वास प्रस्ताव के नियम-
अविश्वास प्रस्ताव सम्बन्धी प्रार्थनापत्र ग्रामसभा के आधे सदस्यों व 3 पंचायत सदस्यों द्वारा डी पी आर ओ के समक्ष प्रस्तुत करना होता है।डी पी आर ओ 30 दिनों के अंदर ग्राम सभा की बैठक बुलाता है जिसकी सूचना 15 दिन पहले कर दी जाती है।
ग्राम सभा की बैठक में कोरम के लिये 1/5 सदस्य अनिवार्य होते हैं। कोरम के आभाव में बैठक स्थगित हो जाती है व अविश्वास प्रस्ताव खारिज हो जाता है ।कोरम के आभाव में खारिज हुये अविश्वास प्रस्ताव के चलते अगला अविश्वास प्रस्ताव एक साल बाद ही लाया जाता है।
किसी प्रधान के विरुद्ध समान्यता अविश्वास प्रस्ताव उसके प्रारम्भिक दो वर्ष के कार्यकाल तक नहीं लाया जाता है।
ग्राम सभा की बैठक में उपस्थित व मतदान देने वाले सदस्यों का दो तिहाई मत अविश्वास प्रस्ताव के लिये आवश्यक है।
उपप्रधान के विरुद्ध अविश्वास प्रस्ताव –
उपप्रधान के विरुद्ध अविश्वास प्रस्ताव लाने की वही प्रक्रिया है जो प्रधान के विरुद्ध अविश्वास प्रस्ताव लाने की है।बस अंतर केवल यह है कि जहाँ ग्राम प्रधान के विरुद्ध अविश्वास प्रस्ताव ग्राम सभा के आधे सदस्य व ग्राम पंचायत के सदस्य मिलकरलाते हैं वहीं उपप्रधान के विरुद्ध अविश्वास प्रस्ताव ग्राम पंचायत के सदस्य द्वारा ही लाया जाता है।
ग्राम प्रधान को हटाने का द्वितीय प्रावधान-
ग्राम प्रधान के विरुद्ध यदि कोई वित्तीय अनियमितता या भ्रष्टाचार सम्बन्धी मामला है तब राज्य सरकार ग्राम प्रधान के विरुद्ध कार्यवाही कर सकती है एवं उसे पदमुक्त कर सकती है।
ग्राम प्रधान या सरपंच का वेतन-
ग्राम प्रधान या सरपंच को मानदेय के रूप वेतन मिलता है।ग्राम प्रधान का मानदेय अलग-अलग राज्यों में अलग-अलग है।उत्तर प्रदेश सरकार ने ग्राम प्रधानों का मानदेय 3500 रुपये मासिक निर्धारित किया है साथ ही उसे कई अन्य भत्ते भी प्रदान किये जाते हैं।
यह सच है कि ग्राम प्रधानों को बहुत मामूली मानदेय प्राप्त होते हैं जबकि वह दिन रात जन सेवा में लगे रहते है।कहीं न कहीं ग्राम प्रधानों का यह कम मानदेय ही पंचयतों में भ्रष्टाचार का एक कारण भी है।

आज का अपराध न्यूज़
रिपोर्ट शादाब खान
लखीमपुर खीरी

दहेज की खातिर विवाहिता को जान से मारने की दी धमकी जान बचाकर घर से भागी


निघासन/सिँगाही खीरी सिँगाही थाना क्षेत्र के गाँव भैरंम पुर मे एक विवाहिता को को उसके पति द्वारा प्रताड़ित करने का मामला प्रकाश मे आया है। प्रताड़ित किरण देवी की शादी करीब सात साल पहले भैरंम पुर निवासी दिनेश कुमार पुत्र पुतू लाल से हूई थी। कुछ दिन सब ठीक ठाक चल रहा था की अचानक से दोनो की अन बन हो गयी । किरण देवी ने सिँगाही थाने मे लिखित तहरीर दी है जिसमे बताया गया है।दिनेश कुमार पुत्र पुत्तू लाल जेठ रमेश कुमार सास जग्देई पुत्र वा पत्नी पुत्तू लाल पुत्तू लाल का दामाद दिनेश कुमार पुत्र मनोहर लाल तथा किरण की ननद सुमिर्ता आदि ने प्रताड़ित किरन को दहेज के नाम पर 5 लाख नगद रुपये की मांग की है व एक सोने की जंजीर और लखीमपुर मे प्लाट खरीद कर देने का दबाव काफ़ी दिनो से बनाया जा रहा था। और कहा की यह सब मांग पूरी ना होने पति समेत पुरा परिवार किरन को कमरे मे बन्द कर मारने पिटने लगे। प्रताड़ित किरन के पति ने किरन पर जान से मारने के प्रयास से धार दार हथियार से मारने की कोशिश भी एवं मिट्टी का तेल डाल कर जलने का भी प्रयास किया वो तो भला हो उसकी जेथनी का हो मौके पर पहुंच कर किरन को किसी तरह उनके चंगुल से बचाया ।जान बचाकर किसी तरह किरन अपने मायके पहुची और अपने घर वालों को ससुराल जन की पूरी कहानी बतायी ।यह सब सुनकर उसके घर वालों ने सिँगाही थाने मे तहरीर दी है लेकिन मजे की बात यह है की अभी तक प्रताड़ित किरन की रिपोर्ट तक दर्ज नही की गयी है । शायद सिँगाही पुलिस घटना को लेकर संजीदा क्यों नही नजर आ रही है या फिर किसी बडी घटना का इंतजार कर रही है ।या फिर किसी रसूखदार के चलते उसको पकड़ने मे हिला हवाली कर रही है ।जब किरन तहरीर देने गयी तो उसे जल्द ही पकड कर लाने का अस्व शासन देकर घर भेज दिया लेकिन अभी तक उसको नही पकडा गया है।

आज का अपराध न्यूज़
रिपोर्ट शादाब खान/संतोष कुमार
लखीमपुर खीरी

हम देख रहे हैं प्रति वर्ष पेड लगाये जा रहे हैं किन्तु अगले वर्ष तक 90% जगह फिर पेड लगाने के लिए खाली ही रहती है, आखिर क्यो कहा चले जाते हैं पेड


उत्तर प्रदेश उन्नाव/बडे गौरव की बात है हमारी सरकार हर वर्ष करोड़ो पेड़ लगा रही है, गाँव गाँव पेड पहुंच रहे हैं लगाने के लिए, किन्तु आश्चर्य यह है कि यह कार्य करते सरकार को बहुत दिन हो गया आज तक कभी भी यह व्यौरा देखने को नही मिला कि कितने पेड़ तैयार हो चुके, क्या सिर्फ पेड़ लगाकर फोटो खिंचवाने से ही हवा शुद्ध हो जाती है, क्या पेड लगाकर भगवान भरोसे छोड़ देना सरकारी राजस्व का दुरुपयोग नही है |
हम देख रहे हैं प्रति वर्ष पेड लगाये जा रहे हैं किन्तु अगले वर्ष तक 90% जगह फिर पेड लगाने के लिए खाली ही रहती है, आखिर क्यो कहा चले जाते हैं पेड, लगाये गए पेड़ो की देखभाल करने के लिए कभी पेड लगवाने वाली सरकार गम्भीर क्यो नही होती, सरकार पंचायतो को पेड गिनकर देती है, फिर अगले वर्ष देती है, किन्तु लेने आने वाले से यह क्यो नही पूछती कि गत वर्ष लगाये गए पेड किस स्थिति में है|
हम जानते हैं कि यदि जीवन बचाना है तो पेड लगाना है, किन्तु पेड तैयार भी हो उसके लिए कोई नीति स्पष्ट नही है यह बहुत बड़ी कमजोरी है, सिस्टम का खोखलापन भी है, यदि हम सजग है तो योजना बनाते समय हर पहलू पर बिचार होना चाहिए, बाकी रह गई कमियो पर सुझाव मांगना चाहिए, उठने वाली आवाजो पर ध्यानाकर्षण करते रहना चाहिए, तभी सफलता सुगम होगी वरना सरकारी योजनाओं का हाल बेहाल है, दलाल मालामाल है, जनता कंगाल है, सिस्टम खुशहाल है, इसे बदलने हेतु संकल्प लेकर आगे बढ़ने की जरूरत है|

रिपोर्ट मोहम्मद इरफान खान उन्नाव

मदर टेरेसा फाउंडेशन परिवार में सय्यद ज़ीशान हैदर जिला चेयरमैन अम्बेडकरनगर की अनुशंसा से वॉइस चेयरमैन मनोनीत किया गया

अम्बेडकरनगर, उत्तरप्रदेश मदर टेरेसा फाउंडेशन परिवार में सय्यद ज़ीशान हैदर जिला चेयरमैन अम्बेडकरनगर की अनुशंसा से
सय्यद फैमी अब्बास साहब S/० सय्यद समर हुसैन साहब
पता – पोस्ट बेला परसा जनपद अम्बेडकरनगर थाना बसखारी अम्बेडकरनगर, उत्तरप्रदेश
जिला – अम्बेडकरनगर
मोबाइल नंबर – 7408921962
को ज़िला अम्बेडकरनगर का वॉइस चेयरमैन मनोनीत किया जाता है बहुत-बहुत बधाई और हार्दिक शुभकामनाएं
मदर टेरेसा फाउंडेशन परिवार के सभी साथी आप से उम्मीद करते हैं कि आप पद की गरिमा को समझते हुए फाउंडेशन के लिए अच्छा कार्य करेंगे।

इरफान खान बांगरमऊ उन्नाव।

गणित और विज्ञान के लिये क्रांतिकारी होगी रत्नेश कुमार की नई खोजसंख्या बटे शून्य (±N/0 ) का मान


जिला मैनपुरी के भोगांव इसमे कोई संदेह नहीं है कि आज दुनिया भारतीय गणितज्ञो द्वारा किये गए योगदान के लिए बहुत ऋणी है।
आर्यभट्ट,श्री धराचार्य, ब्रह्मगुप्त, भाष्कराचार्य (द्वितीय), रामानुजन, शकुंतला देवी, वराहमिहिर, स्वामी भारती कृष्ण तीर्थ आदि विश्व प्रसिद्ध और महान भारतीय गणितज्ञो ने अपने कई मूल्यवान आविष्कारों से पूरी दुनिया में भारत के नाम का परचम फहराया है।उनके द्वारा किए गए सबसे महत्वपूर्ण योगदान मे से एक शून्य का आविष्कार है।शून्य के सम्बन्ध मे ही एक नया आविष्कार मैनपुरी के युवा गणितज्ञ रत्नेश कुमार ने किया है।सुल्तानगंज विकास क्षेत्र के जगतपुर गांव मे स्थित पूर्व माध्यमिक विद्यालय के सहायक अध्यापक रत्नेश कुमार ने संख्या बटे शून्य के मान की खोज करके नवम्बर 2019 मे ±N/0 का मान नामक पुस्तक दिल्ली से प्रकाशित कराकर काँपीराइट के लिये आवेदन किया था अब भारत सरकार ने रत्नेश कुमार को काँपीराइट रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट प्रदान कर दिया है। इससे पूर्व भी विभाज्यता का महासूत्र एवं दशक नियम पर 2013 मे तथा विभाज्यता के तीव्रतम महासूत्र पर 2017 में नामक दो सूत्रो पर भारत सरकार रत्नेश कुमार को काँपीराइट रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट प्रदान कर चुकी है। आर टी आई से मिली सूचना के आधार पर यह सर्टिफिकेट विश्व के 136 देशों मे मान्य है।कस्बा भोगाँव निवासी पूर्व विधायक हरीराम शाक्य के सबसे छोटे पुत्र इन्जीनियर रत्नेश कुमार ने वर्ष 2011 मे भी विभाज्यता का महासूत्र खोजा। रत्नेश कुमार देश भर की विभिन्न संस्थानो मे सेमिनार और वेबिनार के माध्यम से इसका प्रदर्शन कर गणितज्ञो को आश्चर्यचकित कर चुके हैं।
महान गणितज्ञ भास्कराचार्य द्वितीय (1114-1185) के अनुसार- यदि किसी संख्या में शून्य से भाग दिया जाता है तो उत्तर अनंत प्राप्त होता है। जैसे-
5/0=∞
19/0=∞
109/0=∞
1745/0=∞
जबकि अन्य गणितज्ञो ने इसे अपरिभाषित माना है।
यह बात विभाज्यता के महासूत्रो के खोजक रत्नेश कुमार हो गले नहीं उतरी और उन्होंने 2017 से इसके सही मान निकालने के लिए प्रयास करना शुरू किया।और उसके बाद नवम्बर 2019 मे (संख्या/0) का मान निकालकर गणित के कुछ विद्वानों के सामने सिद्ध किया। विद्वानों ने रत्नेश के मान को सही माना। इसके बाद रत्नेश ने “±N/0 का मान” नामक पुस्तक लिखकर काँपीराइट के लिए आवेदन किया। भारत सरकार ने 7 माह निरीक्षण करने के बाद रत्नेश को ससम्मान काँपीराइट सर्टिफिकेट प्रदान कर दिया है।
रत्नेश कुमार ने गणितीय गणनाओं के आधार पर सिद्ध किया है कि यदि किसी प्राकृतिक संख्या (N) मे शून्य से भाग दिया जाता है तो उत्तर उस प्राकृतिक संख्या से अधिक प्राप्त होता है। अर्थात
N/0>N
10/0>10
19/0>19
108/0>108
रत्नेश को इस उपलब्धि पर नगर के गणमान्य लोगों ने बधाई और शुभकामनाएं दी हैं।

रिपोर्टर डॉ गिरीश शाक्य
आज का अपराध न्यूज़
जिला ब्यूरो चीफ मैनपुरी
8077638288

खैर SDM श्रीमती अंजुम बी ने तहसील प्रांगण में लगाए पौधे


DM अलीगढ़ श्री चन्द्रभूषण सिंह के निर्देश पर अलीगढ़ में बृहद स्तर पर पौधे रोपित किये जा रहे है तथा इसी के क्रम में SDM खैर श्रीमती अंजुम बी ने तहसील में पौधे रोपित किये।

आज का अपराध न्यूज
खैर अलीगढ़ रिपोर्टर
भूपेंद्र शर्मा

चंडौस में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या हुई 5, 17 वर्षीय युवक मिला संक्रमित


ज़िला अलीगढ़ चंडौस। कोरोना वायरस से संक्रमित मरीज जिले में बढ़ते ही जा रहे हैं शनिवार को 22 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। अलीगढ़ शहर के बाद अब संक्रमण गांव देहात कस्बों तक भी पहुंच गया है। जनपद के कस्बा चंडौस में संक्रमित मरीजों की संख्या 5 हो गई है जिनमे एक मरीज ठीक होकर घर आ गया है। शनिवार की शाम आई जांच रिपोर्ट में चंडौस निवासी एक 17 वर्षीय एक पॉजिटिव आया है। सूचना पर तत्काल पुलिस प्रशासन ने संक्रमित मरीज के घर के 100 मीटर के दायरे को सील कर दिया है। सील किए गए दायरे में किसी प्रकार की गतिविधियों की अनुमति नहीं होगी।

रिपोर्ट अरुण शर्मा
चंडौस, अलीगढ़।

खैर तहसील के प्रत्येक गांव में 5 जुलाई से 15 जुलाई से डोर टू डोर होगा स्वास्थ्य परीक्षण व स्क्रीनिंग अभियान


DM अलीगढ़ श्री चंद्र भूषण सिंह के निर्देश पर SDM खैर श्रीमती अंजुम बी ने कोरोना निगरानी समिति को अधिक सक्रिय और उनकी संख्या बढ़ाने को लेकर तहसील में सीडीपीओ,टप्पल,खैर एमओआईसी,सभी एएनएम सहित अधीनस्थ अधिकारियों के साथ बैठक की।जिसमें उन्होंने सभी को कोरोना से बचाव के संबंध में लोगो को जागरूक करने के निर्देश दिए। इसके साथ ही उन्होंने ने कहा कि निगरानी समिति सभी परिवारों के प्रत्येक सदस्य की स्क्रीनिंग करेगी तथा निगरानी समिति के अध्यक्ष व सुपरवाइजर सहयोग करते हुए मोनिटरिंग करेंगे।जिसमे हाई रिस्क व एसिम्प्टोमेटिक लोगो को चिन्हित करते हुए उनके सेम्पलिंग अभियान 5 जुलाई से 15 जुलाई तक बृहद रूप से चलेगा ताकि कोरोना की चेन को तोड़ सके।

आज का अपराध न्यूज
खैर अलीगढ़ रिपोर्टर
भूपेंद्र शर्मा।

बड़े पेट्रोल डीजल के दामो को लेकर तहसील में कांग्रेस ने दिया धरना


प्रयागराज/आज कांग्रेस के शहर अध्यक्ष नाफिश अनवर जी के नेर्तत्व में बड़े पेट्रोल डीजल के दामो को लेकर सदर तहसील में राष्ट्रपति संबोधित ज्ञापन न्याय तहसीलदार को दिया वही पर एक सभी करके नाफिश अनवर ,महिला कांग्रेस अध्यक्ष अल्पना निषाद एव शहर कांग्रेस उपाध्यक्ष पूनम सिंह ने कहा कि सरकार को जहाँ राहत देना चाहिये कोरोना महामारी पर वही पर मोदी सरकार लगातार पेट्रोल डीजल एवं गैस का दम बढ़ाकर जनता को महंगाई की मार दे रही है।ज्ञापन देने वालो में,किशोर वर्षडे,चमन रावत,श्रीश चंद्र दुबे,कामेश्वर सोनकर,अरशद अली,अरशद अली चंद,प्रदीप नारायण द्विवेदी,राजकुमार शुक्ला,रितेश कुमार,बबलू सिप्टैं,सुशील पासी रचना निषाद,राजेन्द्र श्रीवास्तव,अभिनव वर्षडे,इरफान फारूकी,जावेद उर्फी,आदि लोग उपस्थित थे।

आज का अपराध न्यूज़ वलीउल्लाह

वृक्षारोपण करने से मिलती है सुख और शांति-ब्लॉक प्रमुख बिल्लू यादव


वन सप्ताह के अंतर्गत ब्लॉक प्रमुख करहल ने ग्राम पोधला में किया वृक्षारोपण

जिला मैनपुरी करहल।वन सप्ताह में वृक्षारोपण पर्यावरण संरक्षण के तहत ब्लॉक प्रमुख करहल ने वृक्षारोपण किया। इस दौरान ब्लॉक प्रमुख करहल बिल्लू यादव ने सभी से आग्रह करते हुए सभी से वृक्षारोपण करने की अपील की है। उन्होंने बताया है कि वृक्ष लगाने सुख औऱ शांति का अनुभव होता है। इसलिए सभी को अपने जीवन मे कम से कम 10 पौधे जरूर लगाना चाहिए।बताते चले कि ब्लॉक प्रमुख बिल्लू यादव ने क्षेत्र के ग्राम कुर्रा के ग्राम कोदला में वन विभाग की टीम के साथ ग्राम प्रधान कमलेश यादव,डी पी यादव समेत आदि तमाम लोग मौजूद रहे।

रिपोर्टर डॉ गिरीश शाक्य
आज का अपराध न्यूज़
जिला ब्यूरो चीफ मैनपुरी
8077638288

Must Read

- Advertisement -