Home Blog

टिप्पणी प्रकाश की एक किरण गहरे अंधकार को मिटाती है लेखिक सुशीला रोहिला सोनीपत हरियाणा

प्रतापगढ़।आदणीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने 5 अप्रैल को रात्रि 9बजे घर की लाइट बंद कर दीया या मोमबती या मोबाइल की लाइट जलाने के लिए क्यों कहा।उनके कहने के पीछे एक आध्यात्मिक कारण भी है।क्योंकि हमारे शरीर में 9दरवाजे है।( दो आख॔, दो कान,नाक ,मूहं,हाथ,पैर,उत्सर्जन, प्रजनन)दसवाँ द्वार प्रकाश का है जो आत्मा रूपी दीय के प्रकाश से मन का अंधकार दूर होता है।यह आत्मा रूपी दीया का प्रकाश करने का तरीका वर्तमान के सद्गुरु महाराज बताते वह मन को बनाती को आत्म रूपी दीये से जोड़ कर अपनी कृपा की तीली से प्रज्वलित करते है। जिससे निजीस्वार्थ का अंधकार दूर होकर परमार्थ का,सकारात्मकता साहस,धर्य,शारीरिक,मानसिक,आत्मिक प्रकाश मिलता है।
सभी देशवासियों को अपनी इमुनियटी शक्ति को एक दीपक के प्रकाश के माध्यम से बढ़ाना चाहिए जो हमारे पूर्वज,ऋषि-मुनियों राजा,महाराजा करते थे।जब भी कोई राजा महाराजा युद्ध में जाते थे उसकी थाली में दीपक जला और तिलक करके उनकी पत्नी उन्हें भेजी थी । इसका यही प्रयोजन है कि उनमें सकारात्मक की उर्जा साहस का बल ,उत्साह का नूर,देशभक्ति की इच्छा शक्ति को बढ़ाने के लिए,भय से मुक्ति मिलती है।अध्यात्म रूप से मन का तिमिर भी आत्मा का दीप जलने से ही समाप्त होता है और निजीस्वार्थ से ऊपर उठने की शक्ति प्राप्त होती है।निजी स्वार्थ का त्याग मानव को देवता से भी ऊपर उठा देता है।आइए हम सभी 5अप्रैल को रात्रि 9बजे घी या तेल का दीया जलाकर अपनी उर्जा शक्ति को बढ़ाए और राष्ट्र हित में अपना योगदान प्रदान करेंगे धन्यवाद।
5 अप्रैल ही क्यों चुना इसका प्रयोजन यह है कि हमारे अन्दर जो पाँच महामारी (काम,क्रोध,मोह,लोभ,अहंकार)है जो बाहर के साधनों से दूर नहीं होती।

मो,सलमान ब्यूरो प्रमुख प्रतापगढ़
मो,9415151985

ग्राम प्रधान द्वारा सभी को फ्री में राशन वितरण करवाया गया

प्रतापगढ़। कोरोना वायरस को लेकर जिले में चल रहा लॉकडाउन का पालन कराते हुए ग्राम प्रधान व क्षेत्रीय लेखपाल ने सभी कार्ड धारकों फ्री में राशन वितरण करवाया।शिवगढ़ ब्लाक के अंतर्गत विशम्भरपुर (पूरेभैयाजी)ग्राम सभा में शनिवार सुबह वैश्विक महामारी को देखते हुए ग्राम प्रधान हरिश्चंद्र पटेल के नेतृत्व में कोटेदार ने समस्त ग्राम वासियों एवं समस्त कार्ड धारकों को निशुल्क राशन वितरण किया।वहीं हाथ धुलने के लिए पानी एवं साबुन की भी व्यवस्था की।राशन वितरण पर्यवेक्षक की देखरेख में कराया गया।जिसमे क्षेत्रीय लेखपाल भी उपस्थित रहे। मौके पर हीरालाल,राम वरन,धर्मेंद्र,प्रेमशंकर,शुभम शुक्ला,मुन्ना गुप्ता,राम लाल,श्याम बहादुर,पूर्व प्रधान मुरलीधर सहित अन्य ग्रामीण मौजूद है।

मो,सलमान ब्यूरो प्रमुख प्रतापगढ़
मो,9415151985

सरकार ने जान जोखिम में डालकर पत्रकारिता करने वाले पत्रकारों की नहीं ले रहे कोई सुध

उन्नाव/देखने वाली बात है कि अब पत्रकारों का कौन बनेगा हमदर्द मुख्यमंत्री शासन प्रशासन सांसद विधायक नेता प्रधान व प्रतिनिधि या फिर पत्रकारों को सिर्फ एक अपना मोहरा बनाकर हमेशा यूं ही लेते रहेंगे काम।
पत्रकार अपनी जिंदगी को खुद जान जोखिम में डाल करके सरकारी, मौजूदा शासन और जिला प्रशासन की आवाज जनता तक व जनता की आवाज शासन प्रशासन तक पहुंचाने का काम इस संकट काल में आज-कल कर रहे है। इसके साथ ही देश सहित राज्यो में फैला कोरोना वायरस जैसी भयंकर महामारी में पुलिस अधिकारियों व डाक्टरो सहित अस्पतालों में पूरी तरह से मुस्तैद खड़ा है। किन्तु जहाँ पत्रकारों की बात आती हैं।
सरकार ,शासन ,प्रशासन नेता अभिनेता सब सौतेला व्यवहार करने लगते हैं.यहा तक सांसद ,विधायक ,नगरसेवक व धनाड्य व्यक्तियों के एक फोन काल या मैसेज करने पर अपने बाल बच्चों को छोड़ कर उनके पास भागा चला जाता हैं तथा उनके हर कथन व कार्यो को बढ़ा चढ़ा कर उनको काला से सफेद बना देने पर भी आज वही लोगों ने पत्रकारों से मुंह मोड़ लिया हैं।
कलम के सिपाही प्रिंट मीडिया व इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में कार्यरत दर्जनों लोग आज इस संकट काल में शासन व प्रशासन के साथ कंधा से कंधा मिलाकर काम कर रहे हैं ।
उसके बावजूद भी कोई उनको‌ पूछने वाला नहीं है कि आपके वाहनों में डीजल और पेट्रोल कहां से आता है.आपके घर का खर्चा कैसे चलता है।
इसके विपरीत मुख्यमंत्री केआदेशानुसार सरकारी कर्मचारियों को मास्क ,दस्ताना ,सैनिटाइजर साबुन जैैैसी सारी सुविधाएं उपलब्ध करवाई गयी हैं. सुरक्षा के दृष्टि से उपलब्ध होना भी चाहिए।
लेकिन संविधान के चौथे स्तंभ के लिए इस संकट काल में सरकार ने कोई भी सुविधा उपलब्ध नही करवाई है

दिल्ली सरकार ने अस्पतालों में इलाज कर रहे डाॅक्टरों तथा नर्सो के लिए एक करोड़ रुपये का जीवन बीमा देने के लिए ऐलान किया हैं

वही महाराष्ट्र सरकार ने 50 लाख रुपये जीवन बीमा देने के लिए ऐलान किया हैं , किन्तु देश के चौथे स्तंभ के पास कल का राशन हैं कि नहीं.ऐसा पूछने वाला कोई भी इंसान नहीं हैं

महामारी से पहले जब जिसकी ( शासन ,प्रशासन , नेताजी ) जरुरत पड़ी तब पत्रकारों को मैसेज कर बुला लेते थे।इनसे अपनी खबर छपवाकर जहाँ खुद की चमक बढ़ाते थें उन्ही पत्रकारों को आज संकटकाल में कोई पूछने वाला नहीं हैं।
इस महामारी से लड़ने के लिए सांसद व विधायक व धनाढ्य लोग आर्थिक मदत सरकार को दे रहे है.संकट काल में देना भी चाहिए। किन्तु सुबह से शाम तक पेन डायरी व कैमरा लेकर घुमने वाला पत्रकारो पर सरकार की क्यो नही नजर पड़ी…..आज यह सवाल उठता हैं।
इस संकट काल में पत्रकार अपने परिवार को छोड़ कर शहर के हर छोटी बड़ी घटनाओं पर नजर बनाने के लिए दर बदर भटकता रहता हैं। नागरिकों को भोजन ,राशन मिल रहा हैं कि नही ? शासन प्रशासन के अधिकारी कर्मचारी काम कर रहे हैं कि नहीं।
शासन ने आज नागरिकों के लिए क्या कहा.? आदि खबरों को एकत्रित कर शाम को खबरें बनाकर अखबार के कार्यालय में भेजता हैं तो सुबह इसकी जानकारी नागरिकों तक पहुंचती हैं।
कोरोना वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति को आसानी से संक्रमित कर सकता है। पत्रकारिता धर्म हमें हर छोटी से बड़ी खबर हर सूरत में जनता तक पहुंचाने की ज़िम्मेदारी देता है। जिसके कारण सारे पत्रकार बंधु हर सूरत में अपना ये धर्म बख़ूबी निभा रहे है।
कोरोना वायरस की महामारी बहुत ही गंभीर समस्या हैं इस महामारी से कोई भी व्यक्ति संक्रमित हो गया तो वह बहुत ही तेजी से लोगो में फैला देता हैं ।
एक पत्रकार दिन भर में कई जगहों जाता हैं.आम जनता से लेकर अफसरों,राजनीतिज्ञों,स्वाथय्य कर्मियों इत्यादि से मिलता है।ऐसे में उसके संक्रमित होने का ख़तरा कई गुना बढ़ जाता है।और यदि वो संक्रमित हो गया तो उससे ज़्यादा तेज़ी से संक्रमण फैलाने वाला माध्यम और कोई नहीं हो सकता इसीलिए पत्रकार बंधुओं को अपने ‌परिवार के सुरक्षा के लिए सबसे ज़्यादा सावधानी रखने की जरुरत है।

विजय बहादुर सिंह व इरफ़ान खान बांगरमऊ उन्नाव।

एड्स पीड़ित परिवार हुआ दाने-दाने को मोहताज

उन्नाव/मामला जनपद उन्नाव की तहसील बांगरमऊ के ग्राम नेवल का जहां पर एड्स पीड़ित परिवार दाने-दाने को मोहताज
मालूम हो कि बांगरमऊ में पूर्व में झोलाछाप डॉक्टर की लापरवाही से कई लोग एड्स जैसी बीमारी से संक्रमित हो गए थे उस समय इन पीड़ितों के लिए शासन ने कई योजनाओं का भरोसा दिया था लेकिन आज उनके घरों में सूले नहीं जल रहे हैं रोटियों के लाले पीड़ित ने बताया की उच्च अधिकारियों से लेकर प्रधान तक लाखों मिन्नतें की लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई एड्स पीड़ित होने के कारण इन लोगों को कोई भी व्यक्ति मजदूरी पर भी नहीं रखता वहीं लोगों की एड्स की दवाई कानपुर में मिलती है लेकिन लाख डाउन होने के कारण यह लोग दवाई लेने कानपुर भी नहीं जा सकते ऐसे में प्रश्न उठता है कि पीड़ित परिवारों का जीने का सहारा एकमात्र एड्स की दवाई है कब मिलेगी इनको एड्स जैसी जीवन रक्षक दवाएं पीड़ित ने बताया कि आज तक शासन स्तर से हम लोगों को कोई सहायता नहीं मिली हम सभी पीड़ित शासन से मांग करते है लाकडाउन होने के कारण हमें राशन और दवाई की व्यवस्था भी शासन कराएं

रिपोट विजयबहादुर सिहं के साथ मो इरफान खांन बांगरमऊ उन्नाव

समाज सेवीओ द्वारा गरीबो को बाटी गई राहत सामग्री

उन्नाव/देश में फैले कोरोना वायरस के चलते सरकार द्वारा पूरे देश में लॉक डाउन (बंदी) करने के बाद लोगों को अपने- अपने घरों में ही रहने की सख्त हिदायत दी गई है। बंदी के दौरान लोग भुखमरी का शिकार न होने पाएं इसके लिए शासन प्रशासन द्वारा भी पूरे प्रयास किए जा रहे हैं। और बाहर से आने वाले तथा गरीब लोगों को खाने-पीने जैसी आवश्यक सामग्री मुहैया कराई जा रही है।वहीं दूसरी ओर नगर के समाजसेवी व सपा नेता मुकर्रम खान ने भी इस मुश्किल घड़ी में लोगों की सहायता करने का संकल्प लिया है। जिसके तहत उन्होंने खाने-पीने जैसी आवश्यक खाद्य सामग्री नगर के मोहल्ला गुलाम मुस्तफा, पुरबिया टोला,हटिया, मस्तु टोला, व दरगाह शरीफ आदि में वितरित कराई।

रिपोट विजयबहादुर सिहं के साथ मो इरफान खांन बांगरमऊ उन्नाव

पत्रकार से अभद्रता मामले में एक सिपाही लाइन हाजिर

उन्नाव/शहर कोतवाली में तैनात सिपाही संतोष कुमार को किया गया लाइन हाजिर।

दैनिक उन्नाव टाइम्स के सम्पादक अरविंद शुक्ला से अभद्रता किये जाने पर जिले के पुलिस अधीक्षक विक्रांत वीर की कार्यवाही।

वही सी ओ सिटी यादवेंद्र यादव ने बताया कि मौके पर पुलिस वाहन में मौजूद महिला दरोगा लष्मी बाला को भी सही से कार्य करने के दिये गए है निर्देश।

जल्द ही महिला दारोगा पर भी हो सकती हैं कार्यवाही।

पूर्व में भी हुई हैं कई शिकायतें।

रिपोर्ट/विजय बहादुर सिंह व इरफान खान बांगरमऊ उन्नाव।

शबेबरात त्योहार के मद्देनजर ग्राम प्रधान पति द्वारा गरीबों को बांटी गई सामग्री और मास्क

उन्नाव

मामला बांगरमऊ तहसील के क्षेत्र अंतर्गत ग्राम सुरसैनी का जहां पर आज ग्राम प्रधान पति के द्वारा लगभग 200 लोगों को शबे बरात त्योहार के मद्देनजर गरीबों को बांटी गई राहत सामग्री और मास्क ग्राम प्रधान पति ने बताय कि देश में लागू होने के कारण हमारे गांव के गरीब लोग त्यौहार नहीं बना पा रहे थे क्योंकि उन्हें ना तो सामग्री मिल पा रही थी और ना ही वह कहीं कमाने जा पा रहे थे इसलिए हमने अपने निजी पैसों से यह सामग्री इकट्ठा करके गांव के लगभग 200 लोगों को प्रति व्यक्ति 2 किलो शक्कर 2 किलो रवा 2 किलो चने की दाल आधा लीटर रिफाइंड के पैकेट बनाकर सभी लोगों को वितरण किया जिससे कि हमारे गांव के गरीब लोग भी अपना त्यौहार मना सकें इस मौके पर प्रधान पति के साथ इलियास परवेज मतलूब रफीक जल्लू नसीब उल्ला सहित तमाम प्रधान पति के सहयोगी राहत सामग्री बंटवाने में उनके साथ रहे
वही ग्राम प्रधान पति ने देशवासियों से अपील की ऐसी संकट की घड़ी में जिन लोगों के पास उनकी हैसियत है कि वह गरीबों को मदद कर सके तो हम उनसे दरख्वास्त करते हैं कि वो लोग भी आगे आएं और गरीबों की मदद करें

रिपोर्ट विजय बहादुर के साथ मोहम्मद इरफान खान बांगरमऊ उन्नाव

गरीबों तक पहुंचायी गई राहत सामग्री….

गाजीपुर. 21 दिवसीय लाक डाउन के बीच रोज़ कमाने खाने वालों के सामने रोज़ी रोटी का एक बड़ा संकट खड़ा हो गया है, खाने पीने की इस बढ़ती मुसीबत में मदद के हाथ भी उठ रहे हैं और हर कोई अपने स्तर से मदद करने व राहत सामग्री पहुंचाने का प्रयास कर रहा है. इसी कड़ी में अखिल भारतवर्षीय यादव महासभा के जिला उपाध्यक्ष रामज्ञान यादव व युवा जिला अध्यक्ष वीरेन्द्र यादव ने गरीब बस्ती गाजीपुर घाट (धावा ग्रामसभा), रेलवे कॉलोनी के गरीब मजदूरों के बीच जा कर गरीबों को खाद्यान्न वितरण किया

गया. राहत सामग्री पाते ही गरीबों व मजबूरों के चेहरे खिल उठे. कोरोना महामारी के बीच हर तरफ लोग कठिनाइयों में जीवन व्यतीत कर रहे हैं. इसी समस्या को देखते हुए यादव महासभा ने लोगों की मदद का बेड़ा उठाया और लोगों के घर घर जाकर उन्हें सोशल डिस्टेन्सिंग और कोरोना वायरस से अवगत कराया और लोगों को खाने पीने की सामग्री भी वितरित की, साथ ही साथ जीविकोपार्जन के सामान भी उपलब्ध करवाया.
इस मौके पर मनोहर यादव, अजीत, धीरेंद्र कुमार ,राम देश यादव आदि सदस्य मौजूद रहे.

आज का अपराध न्यूज़
ग़ाज़ीपुर जनपद से शाहजाद खान की खास रिपोर्ट

दबंगों का बोलबाला आधा दर्जन के संख्या मे दबंगों ने बोला धावा

महराजगंज। जिले के नौतनवां तहसील क्षेत्र के बरगदवा थाना अन्तर्गत नरायनपुर गाँव के टोला शिकारगढ़ में दबंगो ने मामूली बात को लेकर एक घर मे घुसकर तोड़ फोड़ के साथ कई को घायल कर दिया।प्राप्त जानकारी के मुताबिक बरगदवा थाने में दिए गये तहरीर में पीड़िता ने बताया कि दो सगी बहनें आपस में बात कर रही थी। कि गुजर रहे एक युवक ने सुनकर अपने घर मे बढ़ा चढ़ा कर झगड़ा लगा दिया ।जिसके बाद से गोलबंद होकर इस मामूली बात को लेकर लाठी व ,रॉड से आधा दर्जन लोगों ने पीड़ित के घर मे घुसकर तोड़ फोड़ करते हुए ,घर की युवतियों और बुजुर्गों बच्चों को बेरहमी से पीट पीट कर घायल कर दिया।सूचना पर पहुँची बरगदवा पुलिस के बाद मनबढ़ फरार हो गए। जिसके बाद से पुलिस व गाँव के लोगो के मदद से घायलों को सामुदायिक स्वस्थ केंद्र रतनपुर भेजा गया। लेकिन डॉक्टरो ने जिला अस्पताल को रेफर कर दिया।
इस संबंध में बरगदवा थाना प्रभारी यदुनंदन यादव का कहना है कि तहरीर मिली है ।जांच किया जा रहा है,कड़ी कार्यवाही की जाएगी।

आज का अपराध न्यूज ब्यूरो महराजगंज से रामसागर मिश्र की रिपोर्ट।

जिलाधिकारी रवींद्र कुमार ने जनता से अपील की है कि कोरोना वायरस से बचाने के लिए घर बैठे जनता फोन के माध्यम से अपने रोग का इलाज कर सकते हैं उन्होंने बताया कि संबंधित विषय विशेषज्ञ डॉक्टर से फोन करके दवाओं की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं

ज़िला उन्नाव/ ईएनटी सर्जन, डॉ एन सी वर्मा मोबाइल नंबर 8765485454,डॉक्टर आशीष गौड़ दंत रोग विशेषज्ञ,मोबाइल नंबर 8840237520,डॉक्टर नितिन चौधरी,नेत्र रोग विशेषज्ञ,मोबाइल नंबर 9415766205,डॉ प्रवीन सारस्वत बाल रोग विशेषज्ञ मोबाइल नंबर 8604545800,डॉक्टर अखिलेश सिंह,हड्डी रोग विशेषज्ञ,मोबाइल नंबर 9415747029,डॉ वी के सिंह सर्जन 9044996062,डॉक्टर एस के वर्मा फिजीशियन मोबाइल नंबर 9839788598 के नंबर हैं इस पर आप बात करके डॉक्टर इलाज का फायदा उठा सकते हैं।

विजय बहादुर सिंह व इरफ़ान खान बांगरमऊ उन्नाव।

Must Read

- Advertisement -