मुख्यमंत्री के आदेशों की धज्जियां उड़ाने मैं कोई कसर नही छोड़ रही खाकी

आखिर कहां गया मुख्यमंत्री का आदेश जहां पत्रकारों से बदसलूकी करने पर होगी कार्यवाही

अलीगढ़ गभाना:-मामला गभाना के भरतरी चौकी निकट पचपेड़ा का है जहाँ गभाना थाना प्रभारी राघवेंद्र सिंह भरतरी चौकी इंचार्ज अरविंद सिंह पचपेड़ा पर चैकिंग अभियान चला

रहे थे तभी कुलवा के रहने वाले पत्रकार उपवेन्द्रकुमार राजपूत के यहाँ उनकी माता जी का त्रियोदशी संस्कार (तेरहवी) का कर्यक्रम था तो उपवेन्द्रकुमार अपने कुछ रिस्तेदारों को लेने बाइक से पचपेड़ा पहुँचे थे और अपनी बाइक वापस गाँव की तरफ मोड़ कर खड़ी कर दी पत्रकार उपवेन्द्रकुमार अपनी

बाइक के पास खड़े हुए थे तो गभाना थाना प्रभारी राघवेंद्र सिंह व भरतरी चौकी इंचार्ज अरविंद सिंह ने पत्रकार उपवेन्द्रकुमार की दोनों प्रभारी जेबों में हाथ डालने लगे और कहा क्या है दिखा जेब चैक करवा जबकि पत्रकार उपवेन्द्रकुमार ने अपना परिचय दिया बताया कि में मीडिया से हूँ तो उनका मजाक बनाया कहा कौन है संपादक है मण्डल प्रभारी है ब्यूरो चीफ है में में किसी पत्रकार को नही जानता चल जेब चैक करा एक तरफ तो उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पत्रकारों के हित में तमाम कानून करते हैं औऱ कहते है कि पत्रकारों से अभद्रता हुई तो कार्यवाही अवश्य होगी लेकिन वहीं खाकी मुख्यमंत्री के आदेशों की धज्जियां उड़ाते पत्रकारों से बदसलूकी करने से बाज नहीं आ रही है मानना यह है कि यू तो पत्रकारों पर आए दिन यूपी पुलिस अपना खाकी का रौब दिखाती रही है पहले भी पत्रकारों के साथ अभद्रता करती रही है लेकिन वाबजूद किसी के परिचय देने के बाद भी पुलिस अमानवीय अभद्र व्यवहार करती रही है कहने को पत्रकार को देश का चौथा स्तम्भ कहा जाता है आज चौथा स्तम्भ जर्जर और खोकला होता नजर आ रहा है

रिपोर्ट विनय माथुर अलीगढ़

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here