बहराइच
कोविड टीकाकरण की जनपद में शनिवार (16 जनवरी) से शुरुआत होने जा रही है, वैक्सीन जिले में पहुँच चुकी है। टीकाकरण की सारी तैयारियां पूरी हो चुकी हैं, दो बार कोविड टीकाकरण का पूर्वाभ्यास (ड्राई रन) कर जो कमियां नजर आयीं उन्हें भी दूर किया जा चुका है। यह बात जिलाधिकारी शम्भु कुमार ने शुक्रवार को स्वयंसेवी संस्था सेंटर फॉर एडवोकेसी एंड रिसर्च (सीफॉर) के सहयोग से कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित स्वास्थ्य संचार सुदृढ़ीकरण कार्यशाला के दौरान कही।
जिलाधिकारी ने कहा कि टीकाकरण के पहले दिन केन्द्रों पर जिन स्वास्थ्यकर्मियों को टीका लगाया जायेगा उनका सम्मान भी किया जायेगा क्योंकि उनके बेहतर कार्य का नतीजा रहा है कि आज यह शुभ घड़ी आई है। कोरोना काल में लोगों को सुरक्षित रहने के लिए जरूरी सावधानी बरतने के बारे में जागरूक करने में मीडिया की अहम् भूमिका रही। पूरे कोरोना काल में स्वास्थ्य विभाग, पुलिस कर्मियों और फ्रंट लाइन वर्कर्स की तरह ही मीडिया कर्मियों ने भी समाज को जागरूक करने का जो कार्य किया है, वह सराहनीय है। मीडिया द्वारा बीमारी से बचाव और नियंत्रण दोनों में सहयोग प्रदान किया गया है। उनकी सकारात्मक भूमिका का ही नतीजा रहा कि आज हम कोरोना के खिलाफ इस लड़ाई को जीतने की ओर अग्रसर हैं। इसके लिए मीडिया की जितनी तारीफ की जाए वह कम है।
इस अवसर पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. राजेश मोहन श्रीवास्तव ने कहा कि 16 जनवरी 2021 से शुरू होने जा रहे कोविड टीकाकरण के लिए स्वास्थ्य विभाग पूरी तरह से तैयार है। प्रथम चरण में जिले के 11,448 स्वास्थ्यकर्मियों का टीकाकरण होना है। उन्होंने कहा कि टीकाकरण के लगभग 42 दिन बाद कोरोना से लड़ने की प्रतिरोधक क्षमता बन जाएगी। इसलिए बार-बार कहा जा रहा है कि ‘दवाई भी-कड़ाई भी’ यानि अभी मास्क लगाना और एक दूसरे से दो गज की दूरी का पालन करना सभी के लिए जरूरी होगा। साबुन-पानी से अच्छी तरह से हाथ धुलने से जहाँ कोरोना से बचाव होगा वहीँ अन्य संक्रामक बीमारियों से भी बचे रहेंगे ।
सीएमओ ने बताया कि 16 जनवरी को चार केन्द्रों जिला महिला चिकित्सालय, मेडिकल कालेज, सी.एच.सी. जरवल एवं नानपारा पर कोरोना टीकाकरण किया जायेगा, जिसकी सभी तैयारियां पूरी हो चुकी हैं। एक बूथ पर एक दिन में 100 लोगों को टीका लगाया जायेगा। किस स्वास्थ्य कर्मी को कब और कहाँ टीकाकरण होना है, इसकी जानकारी एक दिन पहले एसएमएस के माध्यम से मिल जायेगी, इसके अलावा टीकाकरण के कार्य में लगे कर्मचारियों को भी मोबाइल पर सन्देश मिल जाएगा कि उन्हें किस केंद्र पर पहुंचना है। उन्होंने बताया कि पहले चरण में स्वास्थ्य कर्मियों, दूसरे चरण में पुलिस कर्मी, होमगार्ड व कोविड के दौरान मदद में जुटे कर्मचारियों, तीसरे चरण में 50 वर्ष से अधिक के व्यक्तियों और गंभीर बीमारी से ग्रसित लोगों का टीकाकरण किया जायेगा। टीकाकरण के लिए व्यक्ति की सहमति आवश्यक है। यह टीका कोरोना के नए स्ट्रेन के लिए भी कारगर है। उन्होंने कहा कि कोरोना टीकाकरण से जुड़ी किसी भी अफवाहों पर ध्यान न दें यह पूरी तरह से सुरक्षित और असरदार है।
कार्यशाला में पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए जिलाधिकारी ने कहा कि कोविड का टीका पूरे मानकों का पालन करते हुए तैयार किया गया है और परीक्षण में खरा उतरने के बाद ही इसे लोगों को लगाया जा रहा है। इसलिए इसको लेकर किसी को कोई भ्रम नहीं होना चाहिए क्योंकि लोगों में इसलिए भी टीके के प्रति पूरा विश्वास होना चाहिए कि इस टीके को सबसे पहले हमारे चिकित्सा कर्मियों को ही लगाया जा रहा है। पत्रकारों ने जानना चाहा कि इसका टीका कितनी बार और कितने दिन के बाद लगेगा इस पर उन्होने बताया कि इसके दो डोज लगेंगे और पहला टीका लगने के 28 दिन बाद दूसरा टीका लगेगा। सत्र स्थल पर सुरक्षा के बारे में मीडिया के सवाल का जवाब देते हुये उन्होंने कहा कि गेट पर ही जांच होगी, जिसका नाम लिस्ट में होगा उसी व्यक्ति को प्रवेश की अनुमति मिलेगी इसके लिए मजिस्ट्रेट भी लगाए गए हैं।
इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक डॉ. विपिन कुमार मिश्रा, सीआरओ प्रदीप कुमार यादव, नोडल मेडिकल कालेज डॉ. ओ.पी. पाण्डेय, जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ. विजय वर्मा, स्वास्थ्य शिक्षा एवं सूचना अधिकारी बृजेश सिंह, सीएफएआर रिजनल समन्वयक सुशील वर्मा, यूनिसेफ के डीएमसी अनिल शुक्ला, डब्लूएचओ के प्रतिनिधि सहित मीडिया प्रतिनिधि मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here