पीलीभीतअधिकारियों ने कर्मचारियों के ऑपरेशन से पहले मोबाइल किये जमा फोटोग्राफी के लिए एक टीम अलग बनाई
मौके पर पहुंचे प्रदेश में मंडल के वन अधिकारी
एक और टाइगर की पीलीभीत से विदाई।
पीलीभीत। माधोटांडा खारज़ नहर से दो दर्जन गांव और डेढ़ सौ किलोमीटर वन अधिकारी व कर्मचारियों को दौड़ने के बाद टाइगर आखिरकार कलीनगर तहसील के ग्राम ककरुआ में जिम कार्बेट से आए डॉ. दुष्यंत की ट्रेंकुलाइजर गन से बेहोश किया गया। साथ में पीटीआर के डॉ. दक्ष गंगवार भी मौजूद रहे।
शनिवार सुबह सामाजिक वानिकी के एसडीओ हेमंत कुमार सेठ और माला एसडीओ उमेश चंद्र राय ग्राम ककरुआ पहुंचे उन्होंने पहले तीन टीमें गठित की जिसमें से एक टीम चार कर्मचारियों को टाइगर को ट्रेंकुलाइज के बाद उठाकर पिंजरे में रखना था दूसरी टीम को गन्ने के खेत के आसपास निगरानी रखनी थी और तीसरी टीम को ग्राम ककरुआ से माला रेंज के गड़ा गेस्ट हाउस तक टाइगर के आगे आगे गाड़ी से चलना था टीम द्वारा किया गया मंथन व अभ्यास सफल रहा।
4:00 बज के 5 मिनट पर ट्रैक्टर पर सवार डॉक्टर दुष्यंत और डॉक्टर दक्ष गन्ने के खेत में पहुंचे और 4:13 पर डॉक्टर दुष्यंत ने अपनी गन से टाइगर को बेहोश कर दिया जिसके बाद मौके पर खड़े कर्मचारियों ने टाइगर को उठाकर एक बड़े पिंजरे में रखा जिसके बाद उसे माला गेस्ट हाउस ले जाया गया।
इस मौके पर रेंजर बीसलपुर वजीर हसन खान रेंजर पूरनपुर अयूब हसन खान ने इस मिशन में अच्छी भूमिका निभाई जिसके लिए उन्हें व उनकी टीम को सभी ने बधाई दी।
इस मिशन में मौके पर पीसीसीएफ टाइगर प्रोजेक्ट कमलेश कुमार, सीसीएफ बरेली ललित कुमार वर्मा, पीलीभीत टाइगर रिजर्व के फील्ड डायरेक्टर जावेद अख्तर सामाजिक वानिकी के डीएफओ संजीव कुमार पीटीआर के डीएफओ नवीन खंडेलवाल भी मुस्तैदी से जमे रहे।
बराही रेंजर डीके गोयल, पीलीभीत रेंजर सत्येंद्र चौधरी, वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफर बिलाल मियां, वन प्रेमी ठाकुर अतुल सिंह, अनुज कश्यप, हरविंदर सिंह मान सहित पीटीआर के ऑटो रेंज़ और डब्ल्यूटीआई डब्ल्यूडब्ल्यूएफ, पशु चिकित्सक राजुल सक्सेना, एसके राठौर कर्मचारी व अधिकारी आदि मौजूद रहे

।रि. योगेश गुप्ता आज का अपराध व्यूरोचीफ जनपद पीलीभीत

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here