थाना माधौटाडा तराई क्षेत्र के इलाके में बाघ की दहशत बरकरार है। वाघ को पकड़ने के लिये लगाये गये पिंजरे मे बाघ तो नही आया परन्तु पिंजरे में एक तेंदुआ कैद हो गये सूत्रों के मुताबिक अभी भी बाघ काफी गुस्से में दिखाई दे रहा था टाईगर रिजर्व की बाघ बहुल्य बराही रेन्ज के अर्न्तगत दर्जनों गांव आते है जहॉ अक्सर बाघ या जंगली जानवर गांवो में आकर या तो इंसान पर हमला करते है या फिर उनके पालतू मवेशियो पर। बीते कई दिनो से यहॉ के महाराजपुर, नौ जल्हा आदि गांवो में बाघ की दहशत बनी हुयी थी। जिसको लेकर पीलीभीत टाईगर रिजर्व की टीम ने बाघ को पकडने के लिये एक पिजंरा लगाया था। लेकिन पिंजरे मे बाघ नही कैद हुआ बाघ परंतु एक तेंदुआ पिंजरे मे कैद हो गया। गन्ने के खेतों में छिपे होने की वजह से बाघ की लोकेशन का पता करना वन विभाग के लिए मुश्किल साबित हो रहा है लोगों में बाघ को लेकर दहशत बढ़ती जा रही है। यहॉ के नौजल्हा में पिछले दो माह से एक बाघ ने आतंक मचा रखा है। लोगों के घरों में आकर पालतू छोटे मवेशियों को अपने मुॅह का निवाला बनाने की घटनाएं आम हो गई है। महाराजपुर में अचानक बाघ के आबादी में आकर बैल को निवाला बनाने की घटना को लेकर लोगों में दहशत बनी हुयी है। वनाधिकारियों ने बाघ को पकड़ने के लिए गांव में पिंजरा लगवाया। डीडी टाईगर रिजर्व आदर्श कुमार, रेंजर, डिप्टी रेंजर आदि कर्मचारियों के साथ बाघ को कैद करने के लिए गांव में डेरा जमाए रहे, लेकिन वह कैद नहीं हो सका। वनकर्मी पिंजरे के पास तक बाघ के आने का इंतजार करते रहे, लेकिन वह आया ही नहीं। बाघ को कैद करने के लिए लगाए गए कैमरे में बाघ तो नहीं आ सका, लेकिन एक तेंदुआ जरूर कैद हो गया पिंजरे मे सूत्रों के मुताबिक । ग्रामीणों ने बताया कि अगर टीम को जल्द सफलता नहीं मिली वाघ पकड़ने मे । बाघ और भी हमले कर सकता है लेकिन ग्रामीणो अभी भी बाघ की दहशत वनी हुयी है

रिपोर्ट योगेश गुप्ता

आज का अपराध व्यूरोचीफ जिला पीलीभीत 9760524680

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here