केस डायरी ना आने के कारण अदालत ने अगली तारीख तय की,अगली तारीख 10 मई

उन्नाव. फास्ट ट्रैक कोर्ट ने लगातार दूसरी बार केस डायरी के बिना दुष्कर्म पीड़िता के चाचा के खिलाफ चल रहे मामले की सुनवाई से इंकार कर दिया। इसके पहले भी केस डायरी ना आने के कारण अदालत ने मामले की सुनवाई से इनकार कर दिया था। गौरतलब है उन्नाव दुष्कर्म मामले में दुष्कर्म पीड़िता के चाचा के खिलाफ हत्या का प्रयास का मामला चल रहा है। जिस में दुष्कर्म पीड़िता का चाचा रायबरेली की जेल में बंद है। माखी प्रकरण में दुष्कर्म पीड़िता के चाचा के खिलाफ हत्या के प्रयास का मामला दर्ज है। जिसमें उसके दो भाई भी आरोपी है। अदालत ने दो भाइयों के पक्ष में निर्णय देते हुए बरी कर दिया था। परंतुुु चाचा फरार था। माखी दुष्कर्म मामले में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करने वाला चाचा फरार चल रहा था। जिसे अदालत के आदेश के बाद दिल्ली से गिरफ्तार कर लाया गया था। जो इस समय रायबरेली की जेल में निरुद्ध है।
विगत मंगलवार को दुष्कर्म पीड़िता के चाचा के पक्ष में वकीलों की बहस होनी थी। परंतु थाना से केस डायरी नहीं आई। पुलिस ने अपनी आंख्या में बताया कि केस डायरी हेड मुहर्रिर को रिसीव करा दी गई है। केस डायरी ना मिलने के कारण अदालत ने सुनवाई से इंकार कर दिया। फास्ट ट्रैक कोर्ट ने एक बार फिर केस डायरी तलब करते हुए अगली सुनवाई की तारीख 10 मई निश्चित किया है।

रिपोर्ट मोहम्मद इरफान खान बांगरमऊ उन्नाव

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here